अच्छी खबर: अन्नदाता ने अमेरिका के किसानों को दी 'मात', 1 एकड़ में हुई 50 क्विंटल मक्का की पैदावार

Katihar Samachar: कटिहार समेत पूर्णिया प्रमंडल के सभी क्षेत्रों ने मक्का के मामले में अमेरिका के उन क्षेत्रों को पीछे छोड़ दिया है जहां की उत्पादकता विश्व में सबसे अधिक बताई जाती थी.

अच्छी खबर: अन्नदाता ने अमेरिका के किसानों को दी 'मात', 1 एकड़ में हुई 50 क्विंटल मक्का की पैदावार
37 हजार हैक्टेयर के किसान बम्पर फसल से खुश है.

Katihar: बिहार के कटिहार में अन्नदाता ने विदेशी किसानी को अपनी मेहनत से कोरोना काल पर तालठोक कर पछाड़ डाला है. यहां के किसानों ने धरती को खून-पसीने से सींचकर, मक्के के उत्पादकता को डेढ़ गुणा कर, अमेरिका के किसानों को पीछे छोड़ डाला है. जिले में 37 हजार हैक्टेयर भूमि से उपजी मक्का अब किसानों के खलिहान में किसानों के साथ उनके हाथ चूम रही है. किसान खुशी से नाच रहे हैं. 

वहीं, इसे लेकर जिला प्रशासन और कृषि विभाग का कहना है कि 'कटिहार के किसानों ने अमेरिका के किसानों को पछाड़ डाला है. कोरोना महामारी के बीच बिहार के कटिहार से अच्छी खबर आई है. यहां 37 हजार हैक्टेयर के किसान बम्पर फसल से खुश है.'

सूबे के उपमुख्यमंत्री तारकिशोर प्रसाद ने कहा कि 'ये किसानों की मेहनत का ही प्रतिफल है कि बड़े उत्पादन से क्षेत्र जाना गया. कटिहार ही नहीं, पूर्णिया प्रमंडल के किसानों और अन्नदाता को सरकार बधाई देती है. आने वाले समय मे मक्का आधारित उधोगों-उद्यमियों पर प्रयासरत होकर सरकार अन्नदाता को खुशियां पहुंचने के कार्य मे जुटी है.'

ma

ये भी पढ़ें- कटिहार: कोरोना वैक्सीन लगवाने से डर रहे हैं ग्रामीण, जानें क्या है वजह

इधर, किसानों का कहना है कि देश की धरती से मौसम के साथ, बीज की गुणवत्ता और डेढ़ गुना पैदावार की वजह से अच्छी पैदावार प्रति एकड़ 50 क्विंटल तक पहुंच गई. हम किसान परिवार इससे बेहद खुश हैं. बस अब आगे सरकार किसानों की बेहतरी पर ध्यान दें.'

बता दें कि बिहार के कटिहार समेत पूर्णिया प्रमंडल के सभी क्षेत्रों ने मक्का के मामले में अमेरिका के उन क्षेत्रों को पीछे छोड़ दिया है जहां की उत्पादकता विश्व में सबसे अधिक बताई जाती थी. राज्य के इन जिलों में अब मक्का की उत्पादकता 50 क्विंटल प्रति एकड़ हो गई है. यह विश्व की सबसे अधिक उत्पादकता 48 क्विंटल प्रति एकड़ वाले से अमेरिकी क्षेत्र के इलिनोइस आयोवा और इंडियाना से अधिक है.

(इनपुट- राजीव रंजन)