close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

5 सालों में रघुवर सरकार ने किया 4 लाख 15 हजार शिकायतों का निपटारा, सीएम संतुष्ट

अधिकारियों को सम्बोधित करते हुए कहा, हमें निचले स्तर पर और संवेदनशील प्रशासन देने की जरुरत है. शासन और प्रशासन का जनता से बेहतर तालमेल रहने पर ही हम जनता की समस्याओं का समाधान कर पाते हैं.  

5 सालों में रघुवर सरकार ने किया 4 लाख 15 हजार शिकायतों का निपटारा, सीएम संतुष्ट
पिछले साढ़े 4 साल के जन संवाद की उपलब्धियों को लेकर सीएम संतुष्ट दिखे.

रांची: मुख्यमंत्री रघुवर दास ने अपने कार्यकाल के अंतिम सीधी बाद कार्यक्रम में जनसंवाद के तहत कुल 13 मामलों की सुनवाई गुरूवार को की. धनबाद डीसी द्वारा ऑर्डर फॉलो नहीं होने पर सीएम की तल्खी दिखी तो कृषि विभाग के अधिकारियों पर भी सीएम की नाराजगी भी दिखी. 

सीएम ने अंत में सम्बोधित करते हुए कहा, हमने जनता से जो वादा किया उससे पूरा किया है. अधिकारियों को सम्बोधित करते हुए कहा, हमें निचले स्तर पर और संवेदनशील प्रशासन देने की जरुरत है. शासन और प्रशासन का जनता से बेहतर तालमेल रहने पर ही हम जनता की समस्याओं का समाधान कर पाते हैं.

आगे सीएम ने कहा, अभी और काफी सुधार की आवश्यकता है. जनता की शिकायतों का तुरंत निपटारा हो,लोगों को हमतक अपनी शिकायत को लेकर आने की जरुरत न पड़े, अगर कोई सूचना मिले तो तुरंत कार्रवाई हो. कभी-कभी लापरवाही देखने को मिलती है. आने वाले समय में ये सुशासन नीचे के स्तर तक हमें पहुंचाना है. जन संवाद के दौरान कृषि विभाग के अधिकारियों ने फटकार भी लगाया तो धनबाद डीसी से पूछा ऑर्डर फॉलो क्यों नहीं किया जाता है.

वर्तमान सरकार के आख़िरी जनसंवाद कार्यक्रम में सीएम की मौजूदगी में मुख्यमंत्री के प्रधानसचिव सुनील वर्णवाल ने, बताया इस कार्यकाल में कुल 4 लाख 15 हजार शिकायतें आई. उन्होंने शिकायतों के निपटारे का प्रतिशत 92% बताया. साथ ही कहा कि 24 घंटे प्रति दिन लोगों की शिकायतें दर्ज होती हैं. लोगों को शिकायत के लिए कहीं आने जाने की आवश्यकता नहीं है.

झारखंड में पिछले साढ़े 4 साल के जन संवाद की उपलब्धियों को लेकर सीएम संतुष्ट दिखे, तो अधिकारी , खास कर निचले स्तर के अधिकारियों को जनता के प्रति और जिम्मेदार होने की सलाह दी. साथ ही कहा शासन और जनता के बीच की दूरी को खत्म कर विकास को धरातल पर उतरना है.