नक्सल इलाकों में विकास कार्यों में जुटी है सरकार

जिन इलाको में कभी नक्सलियों की समानांतर सरकार चलती थी. वहां अब प्रशासन का जनता दरबार लग रहा है. 

नक्सल इलाकों में विकास कार्यों में जुटी है सरकार

रघुवर सरकार की पहल से लातेहार के जिन इलाको में कभी नक्सलियों की समानांतर सरकार चलती थी. वहां अब प्रशासन का जनता दरबार लग रहा है. ऐसे में लोग तो खुश हैं ही नक्सलियों का प्रभाव भी लगातार सिमट रहा है.

लातेहार ज़िले के अति नक्सल प्रभावित चंदवा प्रखंड के हेसला में जहां कभी नक्सलियों का बोलबाला था लेकिन रघुवर सरकार की कोशिशों का नतीजा है कि अब स्थानीय लोग मुख्यधारा से जुड़ रहे हैं. पहले रोजगार की तलाश में युवकों को गांव से पलायन करना पड़ता था लेकिन अब तस्वीर बदल रही है.

मुख्यमंत्री के सार्थक प्रयास और डीजीपी डी के पांडेय के निर्देश के बाद झारखंड के 31 गांवों का चयन किया गया. इसमें लातेहार के हेसला और बांझी का भी नाम है.

ये वही इलाका है जहां चुनाव के दौरान सड़क और पुल उड़ा दिया जाता था यहां कई पुलिसवाले नक्सलियों के साथ मुठभेड़ में शहीद भी हुए हैं लेकिन अब प्रशासन सक्रिय हो गया है. 

हेसला के चहुंमुखी विकास को लेकर प्रशासन ने कमर कस ली है. सरकार का मकसद नक्सली इलाक़ों में विकास की बयार के जरिए नक्सलियों के प्रभाव को कम करना है.

(Exclusive Feature)