अयोध्या से निकली राम बारात का बक्सर में हुआ भव्य स्वागत, 28 नवंबर को पहुंचेगी जनकपुर

बक्सर में आयोजित होने वाले सीताराम विवाह महोत्सव को लेकर श्रद्धालुओं में कितना उत्साह होता है इसका नजारा देर शाम देखने को मिला, जब अयोध्या से निकली भगवान श्रीराम की बारात बक्सर पहुंची.

अयोध्या से निकली राम बारात का बक्सर में हुआ भव्य स्वागत, 28 नवंबर को पहुंचेगी जनकपुर
बक्सर में राम बारात का हुआ भव्य स्वागत.

बक्सर: बिहार के बक्सर में श्रीराम विवाह महोत्सव की शुरुआत हो गई है, जिसके कारण श्रद्धालुओं में खासा उत्साह देखा जा रहा है. गौरतलब है कि दस दिवसीय महोत्सव में एक तरफ जहां भक्ति की सरिता बहेगी वहीं, देश के प्रसिद्ध राम कथावाचक मुरारी बापू का भी बक्सर में आगमन हो रहा है जो नौ दिनों तक राम कथा कहेंगे.

बक्सर में आयोजित होने वाले सीताराम विवाह महोत्सव को लेकर श्रद्धालुओं में कितना उत्साह होता है इसका नजारा देर शाम देखने को मिला, जब अयोध्या से निकली भगवान श्रीराम की बारात बक्सर पहुंची.

बक्सर में श्रीराम बारात का भव्य स्वागत किया गया और प्रभु राम की आरती उतारी गई. बक्सर के राम लक्ष्मण जानकी मंदिर स्थित मठिया पर बारातियों के ठहरने और खाने-पीने का इंतजाम किया गया. 21 नवंबर को अयोध्या से निकली राम बारात आजमगढ़ होते हुए बक्सर पहुंची है, जहां रात्रि विश्राम के बाद कई अन्य शहरों से होते हुए 28 नवंबर को जनकपुर पहुंचेगी. इसके बाद वहां राम विवाह महोत्सव का कार्यक्रम होगा फिर 4 दिसम्बर को बारात वापस अयोध्या लौट जाएगी. आयोजक समिति के सदस्य ने बताया कि इस कार्यक्रम का उद्देश्य मैत्री को कायम करना है.

वहीं, बसाव मठ के महंत प्रपन्नाचार्य ने बताया कि यंहा विश्राम कुंड है, जहां भगवान राम ने यज्ञ की रक्षा करने के बाद यहां विश्राम किया था. इसीलिए भगवान की बारात जब भी यहां से जाती है तो रात्रि विश्राम करती है, जिसके बाद वह आगे के लिए निकल जाती है. सबसे खास बात यह है कि रामलला के विवादित जमीन पर फैसला आने के बाद एकबार फिर से राम भक्तों में खासा उत्साह देखा जा रहा है. महंत प्रपन्नाचार्य ने कहा कि भगवान राम का मंदिर जल्द बने यही हमारी कामना है.

हालांकि बक्सर के राम जानकी मंदिर के तत्वाधान में आयोजित 50वां श्रीराम विवाह महोत्सव इसबार पहले की अपेक्षा और खास होने जा रहा है, क्योंकि प्रसिद्ध राम कथावाचक मुरारी बापू के अलावे देश दुनिया के अनेकों साधु संत इस आयोजन में शिरकत करेंगे. जबकि देशभर से हर साल की भांति इस साल भी लाखों की तादाद में श्रद्धालु पहुंचेंगे. 10 दिनों तक चलने वाले इस कार्यक्रम में भक्ति की सरिता बहेगी जिसमें श्रद्धालु गोता लगाते नजर आएंगे.