close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

पटना: कमिश्नर आनंद किशोर पर जमकर बरसे रामकृपाल, कहा- 'चालान काटने में आगे रहते थे, अब कहां हैं'

 पाटलिपुत्र से बीजेपी सांसद रामकृपाल यादव ने राजनीतिक विरोधी से इतर पटना प्रमंडल कमिश्नर आनंद किशोर पर निशाना साधा है.

पटना: कमिश्नर आनंद किशोर पर जमकर बरसे रामकृपाल, कहा- 'चालान काटने में आगे रहते थे, अब कहां हैं'
रामकृपाल यादव ने लोगों के गुस्से को जायज ठहराया है. (फोटो साभार:@ramkripalmp twitter )

रविंद्र सिंह, पटना: बिहार की राजधानी पटना में भारी बारिश और उसके बाद जलजमाव के कारण राजधानीवासी एक हफ्ते से भी ज्यादा समय हो जाने के बावजूद अब तक जूझ रहे हैं. इस बीच सरकार और विपक्ष एक दूसरे पर हमले का कोई मौका भी नहीं चूक रहे हैं. लेकिन पाटलिपुत्र से बीजेपी सांसद रामकृपाल यादव ने राजनीतिक विरोधी से इतर पटना प्रमंडल कमिश्नर आनंद किशोर पर निशाना साधा है.

दरअसल प्रशासन की उदासीनता के चलते दानापुर के स्थानीय निवासियों ने सड़क पर उतरकर जमकर विरोध प्रदर्शन किया जिसे रामकृपाल यादव ने सही ठहराते हुए कहा कि 'लोग परेशान हैं, तो गुस्से का सामने आना स्वाभाविक है'. 

रामकृपाल यादव ने लंबे समय से कमीश्नर पद पर काबिज अफसर आनंद किशोर पर आरोप लगाया कि 'वो अतिक्रमण हटाओ, चालान काटने में आगे रहते थे. अब पटना पर इतनी बड़ी आपदा है, लेकिन कमिश्नर कहीं नहीं दिख रहे. अगर कहीं गए भी हैं, तो उन्हें पटना वापस आना चाहिए'.

पूर्व नगर निगम आयुक्त पर भी बरसे रामकृपाल
इतना ही नहीं स्थानीय सांसद और पूर्व केन्द्रीय मंत्री ने पटना के पूर्व नगर आयुक्त अनुपम सुमन को भी जलकर्फ्यू की स्थिति के लिए दोषी ठहराया और कहा कि 'लंबे समय तक अनुपम सुमन ने मनमाने तरीके से काम किया और उनके बारे में प्रचलित है, वो किसी की नहीं सुनते थे'. अनुपम सुमन कुछ दिनों पहले ही शेष अपने पद से इस्तीफा दे चुके हैं.

बहरहाल रामकृपाल यादव ने ये भरोसा दिया कि दानापुर इलाके में जमा पानी को निकालने के लिए 25 हॉर्स पावर का पंप लगेगा. इससे पहले दानापुर में जलजमाव से परेशान लोगों आगजनी कर दानापुर दीघा रोड को जाम कर दिया था. साथ ही लोगों ने सरकार पर भेदभाव का भी आरोप लगाते हुए विरोध जताया. 

दानापुर के लोग पिछले 10 दिन होने के बाद भी पानी न हटाए जाने और अब उसमें बदबू आने से परेशान हैं. लोगों ने हालात न सुधरने पर उग्र आंदोलन की भी चेतावनी दी है.