close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

कुरान बांटने की शर्त पर ऋचा की जमानत मामले में कोर्ट ने पलटा आदेश, सियासत तेज

कांग्रेस का कहना है कि कोर्ट का निर्णय भाईचारा और सद्भावना का संदेश था, लेकिन लोग समझ नहीं सके. 

कुरान बांटने की शर्त पर ऋचा की जमानत मामले में कोर्ट ने पलटा आदेश, सियासत तेज
ऋचा भारती पर आपत्तिजनक फेसबुक पोस्ट लिखने का आरोप है.

रांची : ऋचा भारती प्रकरण में न्यायिक दंडाधिकारी मनीष कुमार सिंह की कोर्ट का कुरान बांटने के आदेश पर यू-टर्न के बाद अब राज्य में राजनीति फिर तेज हो गई है. इस फैसले को सभी सही मान रहे हैं, लेकिन विपक्ष सरकार और धार्मिक संगठनों पर निशाना साधने से परहेज नहीं कर रहा है.

मामले पर कांग्रेस का कहना है कि कोर्ट का निर्णय भाईचारा और सद्भावना का संदेश था, लेकिन लोग समझ नहीं सके. हालांकि दूसरे निर्णय का भी कांग्रेस सम्मान करती है, क्योंकि विवादों पर विराम लगा है.

कुरान बांटने का मामला: कोर्ट के बदले फैसले पर ऋचा ने जताई खुशी,कहा- 'न्याय की हुई जीत'

कांग्रेस प्रवक्ता आलोक दुबे ने सरकार को कठघरे में खड़ा किया है. उनका आरोप है कि पहले भी ऐसे पोस्ट हुए हैं, लेकिन कॉन्सपिरेसी के तहत सरकार के दबाव में पिठोरिया थाना ने कार्रवाई की. उन्होंने आरोप लगाया है कि यह सब चुनाव के मद्देनजर ही हो रहा है, क्योंकी ऐसे मुद्दों पर भी बीजेपी की तरफ से राजनीति भी की गई.

जेएमएम का कहना है कि न्यायालय के किसी फैसले पर टिप्पणी करना उचित नहीं होगा, लेकिन इतना जरूर कहा जा सकता है कि न्यायालय ने जन भावनाओं के अनुरूप ही फैसला लिया. कुछ भावनाओं को ठेस पहुंच रही थी, इसीलिए कोर्ट को अपना फैसला वापस लेना पड़ा. हालांकि जेएमएम प्रवक्ता मनोज पांडे ने इस पूरे प्रकरण में अतिवादी संगठनों को ही घेरे में लिया है.

इस पूरे मामले में बीजेपी का कहना है कि ऐसे फैसले पर यू-टर्न लेकर कोर्ट ने ऐतिहासिक काम किया है. दोबारा ऐसी गलती दोहराई नहीं जानी चाहिए कि धार्मिक मान्यताओं को ठेस पहुंचे. वहीं, विपक्ष द्वारा उठाए गए सवाल पर बीजेपी प्रवक्ता दीनदयाल का कहना है कि विपक्ष अपनी बिखराव से ही हताश और निराश है, इसीलिए उन्हें सीरियसली लेने की जरूरत नहीं. इन्हें लगता है कि इनका काम सिर्फ सरकार या कोर्ट के खिलाफ जाना है, ताकि लोगों को दिगभ्रमित किया जा सके.

ज्ञात हो कि फेसबुक पोस्ट के जरिए धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुंचाने के आरोप में ऋचा को झारखंड के रांची के जिला अदालत ने धार्मिक काम करने की शर्त पर जमानत दी थी. उन्हें कुरान की पांच प्रतिलिपि बांटने के शर्त पर जमानत दी गई थी. अब कोर्ट ने इस आदेश को बदल दिया है. कोर्ट के इस फैसले पर ऋचा ने खुशी जताई है और कहा है कि आखिरकार न्याय की जीत हुई है.