रांची नगर निगम की लापरवाही आई सामने, नहीं शुरू हुई छठ घाटों की सफाई

लोगों का मानना है कि रांची नगर निगम को पहले ही बड़ा तालाब की साफ-सफाई करनी चाहिए थी. ये पहले से ही लेट हैं. लोगों ने सही से सफाई की मांग की है. 

रांची नगर निगम की लापरवाही आई सामने, नहीं शुरू हुई छठ घाटों की सफाई
रांची नगर निगम की खुली पोल.

रांची: दीपावली खत्म होने के महज छह दिन बाद छठ पूजा होती है, लेकिन झारखंड की राजधानी के तालाबों की सफाई को लेकर नगर निगम की लापरवाही सामने आ रही है. नगर निगम के लाख दावे के बावजूद बड़ा तालाब जिसे कि 'रांची का दिल' कहा जाता है, यहां अभी भी कचरे का अम्बार पड़ा है. जलकुंभी के कारण पूरा तालाब ढका हुआ है. पानी का रंग भी बेरंग हो गया है. दुर्गा पूजा विसर्जन के बाद निगम ने प्रतिमाओं के अवशेष को निकालने के लिए मजदूर और मशीनों की सहायता ली है, लेकिन अभी भी साफ नहीं हुआ है.

वहीं, लोगों का मानना है कि रांची नगर निगम को पहले ही बड़ा तालाब की साफ-सफाई करनी चाहिए थी. ये पहले से ही लेट हैं. लोगों ने सही से सफाई की मांग की है. लोगों की चिंता है कि महज छह दिन में इतने बड़े तालाब की सफाई कैसे होगी.

स्थानीय लोगों का कहना है कि दीपावली के पूर्व से ही साफ-सफाई का काम चलाना चाहिए. अभी तक वही हाल है. लोगों ने कहा कि इस पानी में कोई नहीं नहाता है क्योंकि खुजली होती है. लोग छठ के नाम पर नहा लेते हैं, लेकिन कोई कभी इस पानी को छूता तक नहीं हैं.

अब देखना होगा कि रांची नगर निगम के द्वारा छठ को लेकर तालाबों की साफ-सफाई की व्यवस्था की जाती है या नहीं. जिससे कि छठ व्रतियों को किसी भी प्रकार की दिक्कत का सामना नहीं करना पड़े.