झारखंड: 5 अगस्त को दीयों की रोशनी से जगमगा उठेंगे रांची के मंदिर, ये है वजह...

धर्म गुरुओं की मानें तो 5 अगस्त को पूरी राजधानी को रोशन करने की तैयारी चल रही है. इसे लेकर कुम्हारों को दीप बनाने का आर्डर दिया है.

झारखंड: 5 अगस्त को दीयों की रोशनी से जगमगा उठेंगे रांची के मंदिर, ये है वजह...
राम मंदिर की नींव की चमक झारखंड की राजधानी रांची में भी देखने को मिलेगी.(प्रतीकात्मक तस्वीर)

रांची: 5 अगस्त 2020, यह वो एतिहासिक दिन होगा, जब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) राम मंदिर (Ram Mandir) की नींव रखेंगे. अयोध्या (Ayodhya) में राम मंदिर की नींव की चमक झारखंड की राजधानी रांची में भी देखने को मिलेगी, जब इस दिन राजधानी रांची का हर मंदिर और चौक-चौराहा दीए की रोशनी से जगमगाता नजर आएगा और इसी तैयारी की वजह से कुम्हारों का चाक को रफ्तार मिल गई है.

चाक की तेज होती रफ्तार से यह अंदाजा लगाया जा सकता है कि, कुम्हारों के चेहरे में एक खुशी आ चुकी है. यह खुशी हर साल मनाए जाने वाली दीवाली को लेकर नहीं है, बल्कि उस दीवाली की है जो 5 अगस्त को मनाई जाएगी. दरअसल 5 अगस्त को भगवान श्रीराम के जन्म स्थान स्थित राम मंदिर की नींव प्रधानमंत्री मोदी द्वारा रखी जाएगी, जिसे लेकर राजधानी रांची में भी एक अलग सा उत्साह देखने को मिल रहा है.

धर्म गुरुओं की मानें तो 5 अगस्त को पूरी राजधानी को रोशन करने की तैयारी चल रही है. इसे लेकर कुम्हारों को दीप बनाने का आर्डर दिया है. रांची को रोशन करने की जिम्मेदारी राजधानी के उन कुम्हारों को मिली है, जिनके चाक की रफ्तार कोविड-19 (COVID-19) की वजह से थम गई थी.

वहीं, हजारों दीया बनाने के मिले आर्डर के बाद पूरा परिवार इस काम में युद्ध स्तर से जुट गया है तो वहीं, परिवार वालों का मानना है कि, यह पल गौरवान्वित करने वाला है कि, भगवान श्री राम से जुड़ी खुशी की खबरों में उनकी भागीदारी होगी.

रामायण के मुताबिक, भगवान श्री राम 14 वर्ष के वनवास के बाद जब अयोध्या वापस लौटे थे तो, उनके लौटने की खुशी में पूरे अयोध्या को रोशन कर दिवाली मनाई गई थी तो वहीं, अब जब राम जी तकरीबन 500 सालों के बाद अपने जन्म स्थल पर वापस लौट रहे हैं तो यह पल कैसा होगा इसका अंदाजा लगाना शायद मुश्किल नहीं है.