जब सभी गिले-शिकवे भूलाकर क्रिकेट के मैदान में एक हुए युवी-धोनी, छुड़ा दिए थे गेंदबाजों के छक्के

टीम इंडिया के महान खिलाड़ी युवराज सिंह (Yuvraj Singh) और महेंद्र सिंह धोनी  (Mahendra Singh Dhoni) हमेशा से ही अपनी दोस्ती के लिए जाने जाते रहे हैं.

जब सभी गिले-शिकवे भूलाकर क्रिकेट के मैदान में एक हुए युवी-धोनी, छुड़ा दिए थे गेंदबाजों के छक्के
युवी और धोनी दोनों ही एक दुसरे के बेहद खास दोस्त रहे हैं (फाइल फोटो)

Ranchi: टीम इंडिया के महान खिलाड़ी युवराज सिंह (Yuvraj Singh) और महेंद्र सिंह धोनी  (Mahendra Singh Dhoni) हमेशा से ही अपनी दोस्ती के लिए जाने जाते रहे हैं. 2007-11 के बीच ये दोनों टीम इंडिया के लिए सबसे ज्यादा महत्वपूर्ण खिलाड़ी बन गए थे. इस दौरान दोनों ने टीम इंडिया को कई मैचों में जीत दिलाई थी. हालांकि वर्ल्ड कप जीतने के बाद युवी कैंसर से लड़ाई के लिए क्रिकेट के मैदान से दूर हो गए थे. इसके बाद वो टीम इंडिया में कभी नियमित रूप से अपनी जगह नहीं बना पाए थे. जिसके बाद युवराज के पिता योगराज सिंह (Yograj Singh) ​ने धोनी को लेकर कई विवादित बयान दिए थे. जिसके बाद कयास लगाए जा रहे थे कि धोनी-युवी के बीच अब कुछ ठीक नहीं है. 

कुछ इस तरह से मिले दोनों यार

इन सब बातों के बीच 19 जनवरी 2017 भारत और इंग्लैंड के बीच दूसरे वनडे के दौरान ये दोनों ही खिलाड़ी के साथ क्रिकेट के मैदान पर नजर आ रहे थे. इस दौरान टीम इंडिया 25 रन पर 3 विकेट खोकर संघर्ष कर रही थी. ऐसे में इन दोनों पुराने यारों ने टीम इंडिया की नैया को पार लगाया. इस मैच में दोनों ने चौथे विकेट के लिए 256 रन जोड़े थे. इसके अलावा ये  के बीच वनडे में यह अबतक की सबसे बड़ी साझेदारी थी. इस मैच में 20 मार्च 2011 के बाद अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट में अपना पहला शतक बनाया था. वहीं, धोनी ने भी 2013 में हुए मोहाली वनडे के बाद अपना पहला शतक जड़ा था. इस पारी के बाद युवराज सिंह ने सोशल मीडिया पर धोनी के साथ अपना विडियो शेयर किया था और उनकी तारीफ की थी. 

युवराज के इस विडियो के बाद फैंस के बीच उम्मीद जगी थी कि अब दोनों ही खिलाड़ियों के बीच सब ठीक हो गया है. कई इंटरव्यू में धोनी ने खुद माना है कि उनकी कप्तानी के शुरूआती दौर में युवी टीम के लिए बेहद जरूरी थे.

 

'