कोरोना महामारी के बीच 'लातेहार की बेटी' बनी मिसाल, बच्चे को पीठ से बांध घर-घर जाकर लगा रही टीका

Latehar Samachar: मानती कुमारी अपनी जान को जोखिम में डालकर लोगों का टीकाकरण कर रही हैं. मानती अपने छोटे बच्चे को पीठ पर बांधकर, नदी पार कर लोगों को इस बीमारी के प्रति जागरूक करते हुए देश के प्रति अपना फर्ज निभा रही हैं.  

कोरोना महामारी के बीच 'लातेहार की बेटी' बनी मिसाल, बच्चे को पीठ से बांध घर-घर जाकर लगा रही टीका
मानती जान को जोखिम में डालकर लोगों का टीकाकरण कर रही हैं.

Latehar: कोरोना महामारी (Coronavirus)  ने देश को सकते में डाल दिया है. जिसके चलते सरकार लॉकडाउन (Lockdown) से लेकर स्वास्थ्य सुरक्षा सप्ताह (Health safety week) के द्वारा इस महामारी से लोगों को बचाने का निरंतर प्रयास कर रही है. लेकिन सरकार चाहे जितने भी प्रयास कर ले इस महामारी से तब ही मुक्ति मिल सकती है जब लोग इसके प्रति जागरूक होकर कोरोना का टीका (Vaccine) लगवाएंगे.

लातेहार जिला जंगलों और पहाड़ों से घिरा है. कहीं रास्ते नहीं है तो कहीं बरसात के कारण नदियों में उफान है. ऐसे में वैक्सीनेशन (Vaccination) में परेशानी हो रही है.  इसे देखते हुए महुआडांड़ प्रखंड के चेतमा गांव में रहने वाली मानती कुमारी अपनी जान को जोखिम में डालकर लोगों का टीकाकरण कर रही हैं. मानती अपने छोटे बच्चे को पीठ पर बांधकर, नदी पार कर लोगों को इस बीमारी के प्रति जागरूक करते हुए देश के प्रति अपना फर्ज निभा रही हैं. मानती लोगों के जीवन को बचाने के लिए हर तरह के कष्ट को दरकिनार कर गांव-गांव जाकर टीकाकरण कर रही हैं. जिसे देख उनके जज्बे और साहस को हर कोई सलाम कर रहा है.

ये भी पढ़ें- कोरोना की तीसरी लहर को लेकर झारखंड सरकार सतर्क, यात्रियों का होगा 'RAT' टेस्ट

वहीं, मानती बताती हैं कि 'कोरोना महामारी बेहद खतरनाक है. इस महामारी से कई लोगों की जान तक चली गई है. जिसे देखते हुए सरकार और लातेहार डीसी अबु इमरान के निर्देश के बाद मैंने ठाना है कि है कि मैं हर हाल में अपने क्षेत्र के सभी लोगों को कोरोना का टीका देकर उनके जीवन को बचाते हुए अपना फर्ज निभाऊंगी.'

(इनपुट- संजीव कुमार गिरि)