मोतिहारी: SBI गबन मामले में विजिलेंस की जांच शुरू, RBI ने RM, चीफ मैनेजर से जवाब किया तलब

एसबीआई की विजिलेंस की टीम ने भी मोतिहारी में स्टेट बैंक की मुख्य शाखा में हुए गबन की जांच पड़ताल शुरू कर दिया है. बैंक चेस्ट से जुड़े पूर्व और वर्तमान अधिकारियों के विभिन्न बैंक खाते और इनकम टैक्स रिटर्न्स की जानकारी विजिलेंस की टीम इकठ्ठा कर रही है.

मोतिहारी: SBI गबन मामले में विजिलेंस की जांच शुरू, RBI ने RM, चीफ मैनेजर से जवाब किया तलब
स्टेट बैंक के मुख्य शाखा में करोड़ों रुपए के गबन का मामला सामने आया है.

मोतिहारी: बिहार के मोतिहारी में स्टेट बैंक के मुख्य शाखा में करोड़ों रुपए के गबन का मामला तूल पकड़ता जा रहा है. आरबीआई के निर्देश पर निलंबित आरएम, चीफ मैनेजर सहित सभी 9 निलंबित बैंक कर्मियों से जवाब तलब किया गया है.

अभी करवाई की जद में और भी पूर्व और वर्तमान कर्मी आ सकते हैं. इसमें रिटायर्ड हो चुके बैंककर्मी भी राडार पर हैं. एसबीआई की विजिलेंस की टीम ने भी मोतिहारी में स्टेट बैंक की मुख्य शाखा में हुए गबन की जांच पड़ताल शुरू कर दिया है. 

बैंक चेस्ट से जुड़े पूर्व और वर्तमान अधिकारियों के विभिन्न बैंक खाते और इनकम टैक्स रिटर्न्स की जानकारी विजिलेंस की टीम इकठ्ठा कर रही है. बैंक में कटे-फटे नोट बदलने वाले ग्राहकों को उनके रुपए के मूल्यांकन करने के बाद रजिस्टर पर नाम, पता और फोन नंबर लिखा जाता है, ताकि घड़बड़ी ( नोटो का मूल्यांकन कम या ज्यादा होने पर )  होने पर उससे आरबीआई संपर्क कर सके. लेकिन मोतिहारी में स्टेट बैंक के मुख्य शाखा में वर्ष 2016 से इसका कोई रिकॉर्ड नहीं रखा गया है.

यह रिकॉर्ड कैश ऑफिसर को बनाना होता है. इसके अलावा चेस्ट में रखे गए गुणवत्ता वाली नोट की जिम्मेदारी लेखपाल की होती है. पूरे कैश की जिम्मेदारी बैंक पदाधिकारी का होता है तो फिर, इतने दिनों से चल रहे खेल की जानकारी कैसे किसी वरीय अधिकारी को नहीं मिली.

इस दौरान ऑडिट भी हुआ था, उसमें भी बैंक की घड़बड़ी नहीं पकड़ी जा सकी थी. इन तमाम बिंदु पर आरबीआई और बैंक की विजिलेंस टीम जांच कर रही है. एक अरब रूपए मोतिहारी से आरबीआई में गया है जिसमें लगभग 50 करोड़ कटे-फटे नोट हैं. जिसकी गिनती और मूल्यांकन आरबीआई पटना में चल रहा है. मामला बड़ा होने के कारण बैंक के कोई भी अधिकारी कुछ भी बोलने को तैयार नहीं हैं,