close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

रिम्स के डॉक्टर्स ने बचाई 1 महीने के बच्चे की जान, जटिल सर्जरी कर दिया नया जीवन

बच्चे के मां-बाप ने उम्मीद खो दी थी लेकिन डॉक्टर्स ने ओसिपिटल एनकेफ्लोसिले से पीड़ित बच्चे की सर्जरी कर उसे एक नई जिंदगी दी है. पीडियाट्रिक सर्जरी विभाग के एचओडी डॉ. हिरेंद्र बिरुआ की देखरेख में डॉक्टर्स की टीम ने ये कामयाबी हासिल की.

रिम्स के डॉक्टर्स ने बचाई 1 महीने के बच्चे की जान, जटिल सर्जरी कर दिया नया जीवन
पीडियाट्रिक सर्जरी विभाग के एचओडी डॉ. हिरेंद्र बिरुआ की देखरेख में डॉक्टर्स की टीम ने ये कामयाबी हासिल की.

अभिषेक, रांची: झारखंड के सबसे बड़े अस्पताल रिम्स के डॉक्टर्स ने जटिल सर्जरी को अंजाम देकर एक महीने के बच्चे की जिंदगी बचा ली. बच्चे के मां-बाप ने उम्मीद खो दी थी लेकिन डॉक्टर्स ने ओसिपिटल एनकेफ्लोसिले से पीड़ित बच्चे की सर्जरी कर उसे एक नई जिंदगी दी है. पीडियाट्रिक सर्जरी विभाग के एचओडी डॉ. हिरेंद्र बिरुआ की देखरेख में डॉक्टर्स की टीम ने ये कामयाबी हासिल की.

आपको बता दें की ओसिपिटल एनकेफ्लोसिले बीमारी की वजह से बच्चे का सिर तीन गुना बड़ा हो गया था. अमूमन इस बीमारी में सिर के पिछले हिस्से में हड्डी पूरी तरह से कवर नहीं होने के कारण ब्रेन का हिस्सा बाहर की तरफ निकलने लगता है और हड्डी में छेद रहता है. इसलिए सर्जरी में ब्रेन के बेकार हिस्सों को काटकर हड्डी के छेद को बंद किया जाता है. ऐसे में ये सर्जरी बहुत जटिल है लेकिन रिम्स के डॉक्टर्स ने ये चुनौती स्वीकार कर सफलता हासिल की और एक मासूम जिंदगी को बचा लिया.

करीब डेढ़ घंटे चली सर्जरी में सिर के उस बड़े हिस्से को काटकर अलग कर दिया. अगर ये सर्जरी नहीं की जाती तो भविष्य में बच्चे के सिर का आकार और बढ़ सकता था, जो बाद में उसके लिए खतरा बन जाता. ऐसी स्थिति में बच्चे की जान भी जा सकती थी लेकिन डॉक्टर्स ने अपनी कोशिशों से एक मासूम का जान बचा ली.

सफल सर्जरी के बाद अब बच्चा स्वस्थ है और दो दिनों के बाद अस्पताल से छुट्टी दे दी जाएगी. बच्चे के परिजनों ने मासूम को नई जिंदगी देने के लिए अस्पताल और डॉक्टर्स का धन्यवाद दिया. आम तौर पर सूबे का सबसे बड़ा सरकारी अस्पताल रिम्स कई गलत वजहों से चर्चा में रहता है लेकिन रिम्स के डॉक्टर्स ने जटिल सर्जरी को अंजाम देकर एक मां के चेहरे पर हमेशा के लिए मुस्कान ला दी.
Saloni Srivastava, News Desk