close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

अररिया में निचले इलाकों में घुसा पानी, पूरा गांव टापू की शक्ल में तब्दील

भारत-नेपाल के सीमावर्ती इलाकों में लगातार हो रही झमाझम बारिश से नदियों का जलस्तर बढ़ गया है.

अररिया में निचले इलाकों में घुसा पानी, पूरा गांव टापू की शक्ल में तब्दील
अररिया में निचले गांवों में पानी भर गया है.

अररियाः भारत-नेपाल के सीमावर्ती इलाकों में लगातार हो रही झमाझम बारिश से नदियों का जलस्तर बढ़ गया है. जिससे नदी के किनारे बसे गांवों में बाढ़ का खतरा काफी बढ़ गया है. अररिया जिले के कई निचले इलाकों में बाढ़ का पानी घुस गया है. पानी के बढ़ते जल स्तर के कारण लोगों के बीच भय का माहौल है.

जिला मुख्यालय से महज 9 किलोमीटर दूर बसा झमटा पंचायत के लोग नदी के बढ़ते जल स्तर से डरे-सहमें हैं. नेपाल से नदी में पानी छोड़े जाने के बाद नदियों में उफान है. कई गांव का जिला मुख्यालय से सम्पर्क टूट चुका है. पूरा गांव टापू की शक्ल में तब्दील हो गया है. लोग जान जोखिम में डालकर नदी पार करने के लिए मजबूर हैं.

गांव में आवागमन का एक मात्र साधन चचरी पुल था वो भी पानी के तेज़ बहाव में बह गया. ग्रामीणों का कहना है कि इस गांव को जोड़ने वाला मात्र चचरी पुल था. गांव में नाव था वो भी खराब पड़ा है. इस गांव में एक पूल की मांग वर्षो से की जा रही है. लेकिन वह मांगे पूरी नहीं की जा रही है.

बाढ़ के दिनों के अलावे भी यहां आए दिन हादसा होते रहता है. वहीं, सीओ के पास गुहार लगाने गए लोगों को नाव नहीं मिली. ग्रामीणों की शिकायत है कि अब तक कोई भी अधिकारी मदद के लिए इस पंचायत में नहीं पहुंचे हैं.