महागठबंधन में लेफ्ट पार्टी की भूमिका को लेकर संशय, 8 सीटों से ज्यादा नहीं देना चाहती RJD

हालांकि बैठक के बाद लेफ्ट नेताओं ने महागठबंधन के साथ चुनाव लड़ने की बात दुहरायी थी. लेफ्ट पार्टीज अभी भी ज्यादा सीट लेने की कोशिश में लगी हुई है. 

महागठबंधन में लेफ्ट पार्टी की भूमिका को लेकर संशय, 8 सीटों से ज्यादा नहीं देना चाहती RJD
महागठबंधन में लेफ्ट पार्टी की भूमिका को लेकर संशय, 8 सीटों से ज्यादा नहीं देना चाहती RJD.

पटना: बिहार में महागठबंधन में लेफ्ट पार्टी की भूमिका पर अब भी संशय के बादल बरकरार हैं. लेफ्ट पार्टी अब भी पूरी तरह से महागठबंधन (Mahagathbandhan) के अंदर बनी रह सकती है या नहीं, उस पर सवालिया निशान खड़े किए जा सकते हैं. आरजेडी के साथ हुई मीटिंग के बाद लेफ्ट पार्टी के नेताओं की नाराजगी का राज खुलने लगा है.

दरअसल, आरजेडी किसी भी सूरत में सीपीआई और सीपीएम को 8-10 सीट से ज्यादा देने को तैयार नहीं है. आरजेडी के प्रदेश अध्यक्ष जगदानंद सिंह के इस ऑफर से लेफ्ट नेता नाखुश दिख रहे हैं. रविवार को 2 घंटे तक आरजेडी और लेफ्ट पार्टी के नेताओं की मीटिंग चली है. 

हालांकि बैठक के बाद लेफ्ट नेताओं ने महागठबंधन के साथ चुनाव लड़ने की बात दुहरायी थी. लेफ्ट पार्टीज अभी भी ज्यादा सीट लेने की कोशिश में लगी हुई है. 

लेफ्ट की डिमांड और नाराजगी पर आरजेडी प्रवक्ता मृत्युंजय तिवारी ने कहा कि महागठबंधन में शामिल दलों के लिए सीट मायने नहीं रखता. जीत मायने रखता है. उन्होंने कहा कि 243 सीट पर जीत सुनिश्चित हो ये हमारी कोशिश है. बातचीत अभी चल रही है. अंत में सबलोग संतुष्ट रहेंगे.

बीजेपी प्रवक्ता अरविंद सिंह ने इस मामले पर कहा कि आरजेडी के नेता तेजस्वी यादव जब पोस्टर में अपने मां-बाप को जगह नहीं दे रहे तो सहयोगी दलों के साथ क्या न्याय करेंगे.