close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

सृजन घोटालाः सीबीआई जांच पर विपक्ष ने उठाये सवाल, बीजेपी-जेडीयू ने दिया जवाब..

विपक्ष के लगातार मांगों के बाद सरकार ने सीबीआई से सृजन घोटाले की जांच के आदेश दिये थे. वहीं, अब सृजन घोटाले की सीबीआई जांच पर आरजेडी ने सवाल उठाये हैं.

सृजन घोटालाः सीबीआई जांच पर विपक्ष ने उठाये सवाल, बीजेपी-जेडीयू ने दिया जवाब..
सृजन घोटाले के सीबीआई जांच पर आरजेडी ने सवाल उठाये हैं. (फाइल फोटो)

पटनाः बिहार सरकार ने भागलपुर जिले में एक स्वयंसेवी संस्थान 'सृजन महिला विकास सहयोग समिति' द्वारा सरकारी खाते की राशि के फर्जीवाड़े के मामले की जांच केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) द्वारा किया जा रहा है. विपक्ष के लगातार मांगों के बाद सरकार ने सीबीआई से सृजन घोटाले की जांच के आदेश दिये थे. वहीं, अब सृजन घोटाले की सीबीआई जांच पर आरजेडी ने सवाल उठाये हैं. 

सीबीआई जांच के बारे में आरजेडी उपाध्यक्ष शिवानंद तिवारी ने कहा कि जांच शुरू हुए नौ महीने हो गये. लेकिन अभी तक मुख्य आरोपियों को नहीं पकड़ा जा सका है. उन्होंने कहा कि जांच के नाम पर यहां खिलवाड़ किया जा रहा है. उन्होंने कहा कि नीतीश कुमार और सुशील मोदी को सारी जानकारी होते हुए भी वह बातों को छिपाना चाह रहे है.

वहीं, इस मामले में सत्ता पक्ष का कहना है कि जांच एक प्रक्रिया के तहत चल रही है. मामले की जांच सीबीआई कर रही है तो आरजेडी को अधीर होने की जरूरत नहीं है.

सृजन घोटाले के जांच के बारे में आरजेडी के आरोप को उद्योग मंत्री और जदयू के नेता जय कुमार सिंह ने सिरे से खारिज कर दिया और कहा कि जांच प्रक्रिया के तहत चल रही है. वहीं, 

बीजेपी नेता और पीएचइडी मंत्री विनोद नारायण झा ने कहा कि जांच के बाद सब साफ हो जाएगा. उन्होंने कहा कि कानून की सरकार में आरोपी जरूर पकड़ा जाएगा. चारा घोटाले में भी ऐसा ही लग रहा था. लोग कह रहे थे कि लालू प्रसाद को कुछ नहीं होगा. लेकिन 16 साल बाद उन्हें जेल जाना पड़ा. सृजन घोटाले का भी कोई आरोपित नहीं बच पायेगा.

सृजन घोटालाहाल के सालों में बिहार का सबसे बड़ा घोटाला रहा है, जिसको लेकर विपक्ष समय-समय पर सरकार को घेरता रहा है. अब जांच को लेकर आरजेडी ने सरकार को कठघरे में खड़ा किया है. हालांकि मामले में अब तक 17 लोगों की गिरफ्तारी हुई है. और सीबीआई ने 12 लोगों के खिलाफ चार्जशीट भी दाखिल की है.

उल्लेखनीय है कि भागलपुर के सबौर स्थित स्वयंसेवी संस्था सृजन महिला विकास सहयोग समिति के बैंक खाते में सरकारी योजनाओं के पैसे रखे जाते थे, जिसका उपयोग संस्था चलाने वाले अपने व्यक्तिगत कार्यो में करते थे. पुलिस का दावा है कि यह गोरखधंधा वर्ष 2009 से ही चल रहा था.