कांग्रेस वर्चुअल बैठक कर रही है तो JDU-BJP के पेट में दर्द क्यों हो रहा: RJD

बीजेपी प्रवक्ता निखिल आनंद ने कहा कि, कांग्रेस बिहार में एक पैसा-दो की पार्टी है. वर्चुअल बैठक आईवॉश है. बिहार में कांग्रेस का कोई वजूद नहीं है और वह सिर्फ आरजेडी की पिछलग्गू पार्टी है.

कांग्रेस वर्चुअल बैठक कर रही है तो JDU-BJP के पेट में दर्द क्यों हो रहा: RJD
राजीव रंजन ने कहा कि, पहले कांग्रेस के नेता वर्चुअल रैली का उपहास उड़ाते थे.

पटना: बिहार विधानसभा चुनाव (Bihar Vidhansabha Chunav 2020) की तैयारियों की समीक्षा करने के लिए कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम बैठक की. इस दौरान, राहुल गांधी ने कार्यकर्ताओं और नेताओं को चुनाव को लेकर संदेश दिया. अब इस पर बयानबाजी शुरू हो गई है.

जेडीयू नेता राजीव रंजन ने कहा कि, पहले कांग्रेस के नेता वर्चुअल रैली का उपहास उड़ाते थे, अब उसी प्लेटफार्म पर मिल रहे हैं. राजीव रंजन ने कहा कि, बिहार पहला राज्य होगा, जहां कोरोना के बीच चुनाव होंगे. कोरोना संक्रमण के बीच जेडीयू ने वर्चुअल सम्मेलन किया. अब जेडीयू की राह पर कांग्रेस चल रही है. कांग्रेस की नीति हाथी के दांत दिखाने के कुछ और खाने के कुछ और वाली है.

वहीं, बीजेपी प्रवक्ता निखिल आनंद ने कहा कि, कांग्रेस बिहार में एक पैसा-दो की पार्टी है. वर्चुअल बैठक आईवॉश है. बिहार में कांग्रेस का कोई वजूद नहीं है और वह सिर्फ आरजेडी की पिछलग्गू पार्टी है. दुखद है कि राहुल गांधी (Rahul Gandhi) ने सुशांत मामले में सीबीआई (CBI) जांच का विरोध किया. साथ ही, राहुल गांधी ने महाराष्ट्र सरकार (Maharastra Government) और मुंबई पुलिस (Mumbai Police) का समर्थन किया.

आनंद ने कहा कि, राहुल गांधी ने सुरजेवाला-गोहिल के बिहार विरोधी बयान का समर्थन भी किया. बैठक में कांग्रेसियों ने सुशांत मामले में बिहार सरकार और बिहार पुलिस की निंदा की है. इधर, कांग्रेस प्रवक्ता राजेश राठौर ने कहा कि, अभी पूरे विश्व में कोरोना संक्रमण की महामारी है. बिहारी भी इससे अछूता नहीं है. यहां तो और भी ज्यादा महामारी फैली है.

कांग्रेस नेता ने कहा कि, बिहार में बाढ़ (Flood) का भी प्रकोप है. ऐसे में इस परिस्थिति में वर्चुअल संवाद ही एक तरीका है, जिससे आप लोगों से जुड़ सकते हैं. यही वजह है कि, राहुल गांधी ने पहली बार ब्लॉक स्तर से लेकर प्रदेश पदाधिकारियों के साथ वर्चुअल संवाद किया.

उन्होंने कहा कि, कोरोना और बाढ़ में कैसे कार्यकर्ताओं लोगों की मदद कर पाएंगे, इसको लेकर उन्होंने दिशा-निर्देश और सुझाव दिए. ऐसी परिस्थिति में चुनाव भी होना है. महागठबंधन के सहयोगी दलों के साथ कैसे सामंजस्य बिठाकर चुनाव जीतना है इसका भी संदेश दिया गया है.

वहीं, आरजेडी प्रवक्ता मृत्युंजय तिवारी ने कहा कि, कोरोना काल के इस महामारी में वर्चुअल संवाद ही एक जरिया बचता है. कांग्रेस ने गुरुवार को वर्चुअल रैली की, हर पार्टी और हर नेता अब यही कर रहे हैं.  जनता के बीच जाकर संवाद करना अभी मुमकिन नहीं है, ऐसे में वर्चुअल और डिजिटल ही संवाद का एक जरिया बचा है. कांग्रेस वर्चुअल बैठक कर रही है तो जेडीयू-बीजेपी के पेट में दर्द क्यों हो रहा है.