बीजेपी-जेडीयू एक ही सिक्के के दो पहलू, छलावा है अलग दिखाने की कोशिश : आरजेडी

आरजेडी ने राम मंदिर, ट्रिपल तलाक और धारा-370 जैसे मुद्दों पर जेडीयू के विरोध को दिखावा करार दिया है. 

बीजेपी-जेडीयू एक ही सिक्के के दो पहलू, छलावा है अलग दिखाने की कोशिश : आरजेडी
आरजेडी ने बीजेपी-जेडीयू पर साधा निशाना.

शैलेंद्र, पटना : तत्काल ट्रिपक तलाक और राम मंदिर जैसे मुद्दों पर भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) और जनता दल यूनाइटेड (जेडीयू) का स्टैंड अलग-अलग होने पर राजनीति जारी है. बिहार में मुख्य विपक्षी पार्टी राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) ने इस मुद्दे पर बड़ा हमला किया है. आरजेडी का कहना है कि बीजेपी-जेडीयू एक ही सिक्के के दो पहलू हैं. दोनों एक हैं, लेकिन अलग-अलग दिखाने की कोशिश करते हैं. कांग्रेस ने भी आरजेडी की हां में हां मिलाया है. वहीं, बीजेपी-जेडीयू के नेता बचाव में जुटे हैं. 

आरजेडी ने राम मंदिर, ट्रिपल तलाक और धारा-370 जैसे मुद्दों पर जेडीयू के विरोध को दिखावा करार दिया है. पार्टी के नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री जय प्रकाश नारायण यादव ने कहा है कि जेडीयू ने जिस दिन बिहार में जनादेश का चीरहरण किया था, उसी दिन यह तय हो गया था कि सिर्फ दिखाने के लिए विरोध हो रहा है. उन्होंने कहा कि यह विरोध समाज के विभिन्न वर्गों को भ्रम में डालने के लिए किया जा रहा है, लेकिन असलियत अब सभी जान गए हैं.

आरजेडी की तरह कांग्रेस ने भी जेडीयू और बीजेपी को सवालों के घेरे में खड़ा कर रही है. पार्टी प्रवक्ता प्रेमचंद मिश्रा का कहना है कि दिखावे के लिए ऐसा किया जा रहा है. इससे दोनों के अनैतिक गठबंधन की सच्चाई भी सामने आ रही है.

विपक्ष के विरोध के बीच बीजेपी और जेडीयू के नेता कह रहे हैं कि हम दो दल हैं. पथ निर्माण मंत्री नंदकिशोर यादव और जेडीयू प्रवक्ता राजीव रंजन का कहना है कि हमारा समझौता विकास के मुद्दे पर हुआ है. हम सरकार में साथ हैं, लेकिन विभिन्न राष्ट्रीय मुद्दों पर हमारी विचारधारा एक हो, यह जरूरी नहीं है. ये स्टैंड कोई आज का नहीं है. सालों से यही स्थिति है.

बिहार एनडीए के दो प्रमुख घटल दलों के बीच राष्ट्रीय मुद्दों पर जिस तरह से मतभेद सामने आते रहे हैं, उससे विपक्ष को हमला करने का मौका मिलता रहा है. इस बार आरजेडी यह समझाने में लगी है कि दोनों एक ही दल हैं.