चुनावी रणनीति और तेजस्वी के जनसंपर्क अभियान की तैयारी सार्वजनिक नहीं करेंगे: जगदानंद सिंह

बिहार आरजेडी अध्यक्ष ने कहा है कि, वो पार्टी की चुनावी रणनीति और तेजस्वी यादव के जनसंपर्क अभियान की रणनीति सार्वजनिक नहीं करेंगे.

चुनावी रणनीति और तेजस्वी के जनसंपर्क अभियान की तैयारी सार्वजनिक नहीं करेंगे: जगदानंद सिंह
पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष ने इसे अपनी गुप्त रणनीति बताया है.

पटना: बिहार विधानसभा चुनाव (Bihar Vidhansabha Chunav 2020) समय पर होंगे. इसको लेकर राजनीतिक दलों ने अपनी तैयारी शुरू कर दी है. इसी के तहत बीजेपी-जेडीयू की तरह महागठबंधन के घटक दल भी डिजिटल प्लेटफार्म पर जनता और नेताओं से संवाद करने में जुट गए हैं. लेकिन आरजेडी की चुनावी रणनीति अभी तक सार्वजनिक नहीं हो सकी है.

इस बीच, पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष जगदानंद सिंह का चुनावी तैयारियों पर आया जवाब और भी चौकानेवाला है. आरजेडी अध्यक्ष ने कहा है कि, वो पार्टी की चुनावी रणनीति और तेजस्वी यादव (Tejashwi Yadav) के जनसंपर्क अभियान की रणनीति सार्वजनिक नहीं करेंगे. आरजेडी अध्यक्ष ने डिजिटिल रैली को बेकार की कवायद बताते हुए, चुनाव आयोग पर दो पूंजीपति दलों के इशारे पर काम करने का आरोप लगा दिया है.

दरअसल, बिहार में सभी राजनीति दल चुनाव की तैयारी में जुट गए हैं. बीजेपी, जेडीयू और कांग्रेस, यहां तक कि वीआईपी पार्टी भी डिजिटल प्लेटफार्म पर जनता सें संवाद कर रही है. लेकिन आरजेडी ने अपनी चुनावी तैयारियों को सार्वजनिक करने से परहेज कर लिया है.

पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष ने इसे अपनी गुप्त रणनीति बताया है. बिहार आरजेडी अध्यक्ष जगदानंद सिंह ने कहा है कि, पार्टी ने चुनाव आयोग को जो जानकारी देनी थी, वो दे चुकी है. वो मीडिया में न तो तेजस्वी यादव के जनसंपर्क अभियान का खुलासा करेंगे और न ही पार्टी के चुनाव प्रचार की रणनीति पर जानकारी देंगे.

जगदानंद सिंह ने राजनीतिक दलों के बीच चल रहे डिजिटल रैली की प्रक्रिया को बेकार की कवायद बताया है. आरजेडी अध्यक्ष की माने तो, एक मोबाईल से कितने लोगों से आप संपर्क कर सकते हैं. करोना के बहाने सरकार चुनाव को प्रभावित करने में जुट गई है और चुनाव आयोग दो पूंजीपति दलों के अनुसार काम कर रहा है.

उन्होंने कहा कि, लोकतंत्र की व्यवस्था खतरे में है. जब पूरे देश में अनलॉक हो चुका है. बस से लेकर हवाई जहाज तक चल रहे हैं. सोशल डिस्टेंसिंग का कहीं पालन नहीं हो रहा है. तो राजनीतिक दलों को सीधा जनसंपर्क अभियान और सभा करने की अनुमति मिलनी चाहिए.

इधर, आरजेडी अध्यक्ष के बयान पर बीजेपी ने सधी हुई प्रतिक्रिया दी है. पार्टी के वरिष्ठ नेता बिहार सरकार में मंत्री प्रेम कुमार ने कहा है कि, अभी समझदार वही है जो डिजिटल प्लेटफार्म पर कार्यकर्ता और जनता से संवाद कर रहा है. कोरोना काल में संक्रमण से सबको बचाना है. इसलिए सार्वजनिक सभाएं नहीं की जा रही हैं. ऐसे में समझदारी से काम लेना होगा. बीजेपी दोनों मोर्चों पर काम कर रही है. हम डिजिटल संवाद भी कर रहे हैं और हमारे कार्यकर्ता लोगों के घरों तक पहुंच भी रहे हैं.