झारखंड: CM हेमंत सोरेन से विधायक सरयू राय ने की मुलाकात, रखी यह मांग

मैंने बताया कि सरकार जो घोषणाएं इस संबंध में रोज़ाना कर रही है, उनका क्रियान्वयन सुनिश्चित होना चाहिेए अन्यथा उम्मीद रखे लोग नाहक परेशान और निराश होंगे. मुख्यमंत्री ने कहा कि उनका ध्यान इस पर है.

झारखंड: CM हेमंत सोरेन से विधायक सरयू राय ने की मुलाकात, रखी यह मांग
झारखंड: CM हेमंत सोरेन से विधायक सरयू राय ने की मुलाकात, रखी यह मांग. (फाइल फोटो)

रांची: जमशेदपुर से निर्दलीय विधायक सरयू राय (Saryu Rai) ने झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन (Hemant Soren) से मुलाकात की है. सीएम से मुलाकात के बाद सरयू राय ने कहा कि मैंने मुख्यमंत्री के सामने कुछ मांग रखी है. सरयू राय ने कहा कि मुख्यमंत्री से मिला और निम्नांकित बिन्दुओं की ओर ध्यान खींचा.

1. जमशेदपुर पर विशेष ध्यान दें. इस मार्च महीना में करीब 600 लोग यहां विदेश से आए हैं जिसमें खाड़ी देश, यूरोप, अमेरिका से आनेवाले भी हैं. जांच के उपकरण और डाक्टरों की सुरक्षा वाला पहनावा की व्यवस्था की जाए. मुख्यमंत्री इस पर गम्भीर एवं संवेदनशील दिखें और कहा व्यवस्था की इसकी व्यवस्था की जा रही है .

2. प्रधानमंत्री ने 1 लाख 70 हज़ार करोड़ रूपए का कोरोना सहायता पैकेज घोषित किया है. उसमें से झारखंड को कितना मिलेगा, कितना वस्तु में होगा और कितना नगद में. इसके उपयोग की प्राथमिकताएं तय हों. इस पर सीएम ने कहा कि इसकी अधिसूचना कल आई है. स्वास्थ्य, नागरिक सेवाओं एवं विविध ज़रूरतों में इसके उपयोग पर केन्द्र की शर्तों के अनुरूप कारवाई की जा रही है.

3. स्वास्थ्य सेवाओं तथा जनसुविधाओं को उपलब्ध कराने पर बराबर ध्यान रहे इसके लिए मुख्यालय और ज़िला प्रशासन को स्पष्ट दो समूहों में बांटकर ज़िम्मेदारी तय होनी चाहिे. सीएम ने कहा कि वे सरकार के समस्त विभागों की जनशक्ति को एकत्र कर इसमें लगाने पर विचार कर रहे हैं.

4. मैंने बताया कि सरकार जो घोषणाएं इस संबंध में रोज़ाना कर रही है, उनका क्रियान्वयन सुनिश्चित होना चाहिेए अन्यथा उम्मीद रखे लोग नाहक परेशान और निराश होंगे. मुख्यमंत्री ने कहा कि उनका ध्यान इस पर है.

5. कोरोनाबंदी में ज़रूरतमंदों एवं दिहाड़ी मज़दूरों के लिए भोजन सबसे बड़ी समस्या है. मैंने सीएम से कहा कि सरकारी राशन उन सभी को दिया जाए जो लेना चाहते हैं. पीला और लाल राशन कार्डधारी, सफेद राशन कार्डधारी, राशन कार्ड के लिए आवेदन करने वालों तथा इसकी योग्यता रखने वाले सभी को राशन दिया जाए. सीएम ने कहा कि वह इस पर विचार कर रहे हैं.

6. मैने बताया कि अभी भारत सरकार 2011 की जनसंख्या पर राशन दे रही है. खाद्य आपूर्ति मंत्री के नाते मैंने प्रधानमंत्री और केन्द्रीय खाद्य मंत्री को लिखा था कि केन्द्र सरकार झारखंड को 2019 की जनसंख्या पर राशन आवंटित करे तो बचे हुए सभी को राशन मिल जाएगा. मैंने सुझाव दिया कि सीएम को इस बारे में केन्द्र से बात करनी चाहिए और तब तक राज्य को सभी इच्छुक व्यक्तियों/परिवारों को राशन देने का ऐलान करना चाहिे. सीएम इस पर गंभीर दिखे.

7. शहरों में सरकार के अतिरिक्त अनेक व्यक्ति/संस्थाएं भोजन/अन्न ज़रूरतमंदों में वितरित कर रहे हैं. इस प्रयास को समन्वित और एकीकृत करना चाहिए.

8. कम वेतन पाने वाले, ठेका पर सरकार और गैरसरकारी क्षेत्र में काम करने वाले का वेतन और अवकाश प्राप्त एवं वृद्ध/विधवा पेंशनधारियों को बकाया वेतन और भत्ते का अविलंब भुगतान सरकार को करना चाहिए. रुग्ण उद्योगों के मजदूरों को प्रबंधन से निर्धारित वेतन भुगतान कराना चाहिेए.

9. मैंने सीएम से कहा कि जरूरी सामानों की आपूर्ति बरकरार रखने के लिए उन्हें केन्द्रीय खाद्य आपूर्ति मंत्री या प्रधानमंत्री से बात करनी चाहिए. जमशेदपुर में चूड़ा नहीं मिल रहा है कि बांटा जाए. सामानों एवं सब्ज़ियों के दाम बढ़ रहे हैं. बाजार पर नियंत्रण के हर संभव उपाय करना ज़रूरी है.

10. पशुओं का चारा महंगा हो गया है. गौपालक परेशान हैं. जमशेदपुर के उपायुक्त से मैंने कई बार शिकायत की. बंगाल और उड़ीसा से पुआल लाने में परेशानी हो रही है. सरकार को इसका ध्यान रखना चाहिए.

11. कोरोनाबंदी के मद्देनज़र झारखंड के अलग-अलग इलाकों के लिए सेसेक्टिव इंतज़ाम करना चाहिए. सभी इलाकों के एक डंडे से हांकना व्यवहारिक नहीं होगा. सभी जगह बंदी की सघनता एक समान नहीं रखनी चाहिए. पूरे राज्य की आबादी को एक बराबर बेचैन और परेशान रखने के बदले वैज्ञानिक दृष्टिकोण से महामारी का सामना करना चाहिए.

12. झारखंड में विदेश से आकर यहां घूमने वालों के लिए, चाहे वे कोरोना से संक्रमित हों या नहीं हो, एक अति सुरक्षित जगह पर रखना चाहिए, डिटेंशन सेंटर की तरह.