close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

हजारीबाग: मिड डे मील में घोटाला, स्टोर में अनाज फिर भी बच्चों को नहीं मिला खाना

पूर्व अध्यक्ष का आरोप है कि स्कूल में दोपहर का भोजन बंद होने को लेकर जब उसने प्रधानाध्यापक से जानकारी मांगी तो उन्होंने यह कहकर पल्ला झाड़ लिया कि उनके रजिस्टर में अनाज का कोटा खत्म हो गया है.

हजारीबाग: मिड डे मील में घोटाला, स्टोर में अनाज फिर भी बच्चों को नहीं मिला खाना
MDM में घोटाला...

हजारीबाग: झारखंड सरकार (Jharkghand Government) गरीब बच्चों को पौष्टिक खाना देने के नाम पर करोड़ों रुपये खर्च करती है, लेकिन इस योजना का पलीता लगाने में कुछ लोग कोई कोर कसर नहीं छोड़ रहे हैं. ऐसा ही एक मामला हजारीबाग में सामने आया है, जहां मिड डे मील (Mid day Meal) के नाम पर एक घोटाला सामने आया है.

हजारीबाग के टाटीझरिया प्रखंड के खैरा कर्मा उच्च विद्यालय में मध्यान भोजन को लेकर एक घोटाला सामने आया है, जिसके बाद विद्यालय प्रबंधन समिति के पूर्व अध्यक्ष विद्यालय के प्रधानाध्यापक और मुखिया तीनों के बीच ठन गई है.

पूर्व अध्यक्ष का आरोप है कि स्कूल में दोपहर का भोजन बंद होने को लेकर जब उसने प्रधानाध्यापक से जानकारी मांगी तो उन्होंने यह कहकर पल्ला झाड़ लिया कि उनके रजिस्टर में अनाज का कोटा खत्म हो गया है. लेकिन जब ग्रामीणों के साथ मिलकर गोदाम दिखाने का दबाव डाला, तब सच्चाई सामने आई.

गोदाम खोलने के बाद उसमें चावल की कई बोरियां रखी हुईं थी, बावजूद इसके बच्चों को खाना नहीं दिया जाता था. इसको लेकर विद्यालय प्रबंधन समिति के पूर्व अध्यक्ष जिला शिक्षा अधिकारी से शिकायत की और पूरी घटना का वीडियो भी भेजा. बावजूद इसके खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की गई. विद्यालय प्रबंधन समिति के पूर्व अध्यक्ष का आरोप था कि इस शिकायत के बाद फिर से उसे अध्यक्ष पद से हटा दिय गया.

लाइव टीवी देखें-:

जब इस बाबत विद्यालय के प्रधानाध्यापक से पूछा गया तो उन्होंने स्पष्ट शब्दों में कहा कि मुझे प्रधानाध्यापक का प्रभार मिले मात्र कुछ ही दिन हुए हैं. इस संबंध में जांच कर ली गई है और इसकी रिपोर्ट भी जमा करा दी गई है.

-- Rajendra Malviya, News Desk