झारखंड चुनाव: NDA में फंसा सीटों का पेंच, दोस्तों ने बढ़ाई BJP की चिंता!

आजसू ने बीजेपी से इस बार 19 सीटें मांगी हैं, जबकि 2014 के चुनाव में उसे आठ सीटें मिलीं थीं. वहीं, एलजेपी भी छह सीटों पर अड़ी है

झारखंड चुनाव: NDA में फंसा सीटों का पेंच, दोस्तों ने बढ़ाई BJP की चिंता!
एनडीए में 29 सीटों को लेकर पेंच फंसता दिख रहा है. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

नई दिल्ली: झारखंड में एनडीए (NDA) के घटक दलों के साथ सीटों का बंटवारा न हो पाने के कारण 29 सीटों की सूची फंस गई है. इस वजह से बीते रविवार को भारतीय जनता पार्टी (BJP) ने सिर्फ 52 सीटों के उम्मीदवारों की ही सूची जारी की.
 
वहीं, बीजेपी के ओर से जारी सूची में एनडीए के सहयोगी दल, ऑल झारखंड स्टूडेंट्स यूनियन (AJSU) और लोक जन शक्ति पार्टी (LJP) ने जिन सीटों पर दावा किया है, लगभग उन सीटों प्रत्याशियों के नाम लिस्ट में नहीं है. जिससे माना जा रहा है कि सहयोगियों के संबंधित सीटों पर अड़ जाने के कारण बीजेपी बातचीत सुलझाने के बाद दूसरी सूची जारी करने के मूड में है. 

सीटों के बंटवारे की बात करें तो आजसू ने बीजेपी से इस बार 19 सीटें मांगी हैं, जबकि 2014 के चुनाव में उसे आठ सीटें मिलीं थीं, जिसमें से वह पांच सीटें जीत पाई थी. वहीं, लोहरदगा सीट को आजसू ने प्रतिष्ठा का प्रश्न बना लिया है.

इस सीट पर आजसू और बीजेपी दोनों लड़ना चाहते हैं. दरअसल, 2014 के विधानसभा चुनाव में इस सीट से आजसू नेता कमल किशोर भगत जीते थे. हालांकि बाद में एक मामले में कोर्ट से सजा होने के कारण इस सीट पर हुए उपचुनाव में कांग्रेस से सुखदेव भगत ने बाजी मारी थी. अब सुखदेव भगत बीजेपी में हैं.

2014 के चुनाव में जीत के कारण आजसू जहां इस सीट को हर हाल में पाना चाहती है, वहीं कांग्रेस से भगवा खेमे में मौजूदा विधायक सुखदेव भगत के आने के कारण बीजेपी इस सीट से खुद लड़ना चाहती है 

चंदनकियारी सीट पर भी आजसू और बीजेपी दोनों लड़ने के मूड में हैं. बीजेपी की पहली सूची में इन दोनों सीटों का नाम न होने के कारण माना जा रहा है कि गठबंधन सहयोगी से बातचीत सुलझने पर ही उम्मीदवार घोषित होंगे. उम्मीदवार घोषित होने में फंसे पेंच के कारण बीजेपी नेतृत्व ने आजसू अध्यक्ष सुदेश महतो को बातचीत के लिए दिल्ली बुलाया था. हालांकि अब तक दोनों दलों की ओर से सीटों के बंटवारे को लेकर कोई बयान जारी नहीं हुआ है. 

वहीं, चिराग पासवान के नेतृत्व वाली लोक जनशक्ति पार्टी भी छह सीटों पर अड़ी है, जबकि बीजेपी उसे सिर्फ एक सीट देना चाहती है. आजसू को भी बीजेपी पिछली बार के बराबर ही सीट देना चाहती है. इस प्रकार देखें तो आजसू और लोजपा ने कुल मिलाकर 25 सीटों पर दावा किया है.

हालांकि सीटों का बंटवारा और प्रत्याशियों का चेहरा तय न हो पाने के कारण अभी शेष 29 सीटों का टिकट लटका हुआ है. बीजेपी के एक नेता ने आईएनएस को बताया, 'बीजेपी एनडीए के सहयोगियों को साथ लेकर चलने में यकीन रखती है. हैसियत के हिसाब से सभी को सीटें ऑफर की जा रही हैं. सोमवार की देर रात या मंगलवार तक सीटों पर तस्वीर साफ हो जाएगी.'

गौरतलब है कि झारखंड में 30 नवंबर से 20 दिसंबर के बीच पांच चरणों में कुल 81 विधानसभा सीटों के चुनाव के लिए मतदान होना है. वहीं, सभी सीटों पर 23 दिसंबर को मतगणना होगी. (Input- IANS)