close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

पटना: 10 दिनों के बाद भी राजेंद्र नगर के कई हिस्सों में जलजमाव, लोगों में आक्रोश

नगर निगम समेत सरकार की अभी भी किरकिरी हो रही है. अभी भी कई इलाकों में गंदा पानी जमा है. 

पटना: 10 दिनों के बाद भी राजेंद्र नगर के कई हिस्सों में जलजमाव, लोगों में आक्रोश
पटना के राजेंद्र नगर के कई इलाकों में जारी है जलजमाव. (तस्वीर- ANI)

पटना: बिहार की राजधानी पटना आज से दस दिन पहले भारी बारिश ( Patna Rain ) के कारण पानी-पानी हो गया था. कई हिस्सों में पांस से सात फीट तक पानी जमा हो गया था. सबसे ज्यादा प्रभावित राजेंद्र नगर ( Rajendra Nagar ) और कंकड़बाग का इलाका था. राजेंद्र नगर में तो बिहार के उपमुख्यमंत्री सुशील मोदी ( Sushil Modi ) का पैत्रिक आवास है, जहां वह रहते हैं. जलजमाव के 10 दिन बीत गए हैं, लेकिन कई हिस्सों में स्थिति जस की तस बनी हुई है. इस जलजमाव ने सरकार और निगम की पोल खोलकर रख दी.

नगर निगम समेत सरकार की अभी भी किरकिरी हो रही है. अभी भी कई इलाकों में गंदा पानी जमा है. आरपीएस लॉ कॉलेज के वार्ड नंबर 39 के सत्यम शिवम कॉलोनी के निवासी बिन बारिश के ही जलजमाव से परेशान होने लगे हैं. गली मोहल्ले में गंदे नाले का पानी घुटने भर जमा है. प्रत्येक दिन इसमें इजाफा ही हो रहा है.

नगर निगम को इस बात की जानकारी भी है, लेकिन कोई कार्रवाई नहीं हुई है. अब स्थानीय लोगों ने जी मीडिया के जरिए गुहार लगाते हुए अपनी पीड़ा बयान की है. लोगों ने सरकार के खिलाफ सड़क पर आगजनी कर हंगामा किया है. लोगों ने जलजमाव से निजात पाने के लिए दूसरे इलाको में पानी को छोड़ दिया, इससे आरपीएस लॉ कॉलेज के वार्ड नंबर 39 समेत कई इलाकों में जलजमाव की समस्या हो गई है.

दस दिनों बाद शहर के राजेंद्र नगर समेत करीब 12 इलाकों में पानी की निकासी शुरू हुई है. वहीं, कई इलाकों में अभी भी जलजमाव है. बाढ़ से त्रस्त लोगों की मदद के लिए टेक्नोलॉजी का भी इस्तेमाल किया जा रहा है. इस आपदा के दौरान पानी में फंसे लोगों के लिए ड्रोन्स भी काफी मददगार साबित हुए हैं.

बाढ़ प्रभावित इलाकों में राहत सामग्री पहुंचाना एक बड़ी चुनौती है, इसमें मदद के लिए ड्रोन का भी इस्तेमाल किया गया. युवाओं ने ड्रोन की मदद से 5 हजार लोगों तक दवा, पानी और कपड़े पहुंचाए.