महबूबा मुफ्ती, नुसरत जहां मामले पर जमकर बरसे शाहनवाज हुसैन, मौलानाओं को दिखाया आईना

शाहनवाज हुसैन ने कहा कि कोसी में हम बैठे हैं. यहां बड़ी तादाद में लोग छठ में भी शामिल होते हैं. इसलिए पहनावे पर विवाद सही नहीं है.

महबूबा मुफ्ती, नुसरत जहां मामले पर जमकर बरसे शाहनवाज हुसैन, मौलानाओं को दिखाया आईना
शाहनवाज हुसैन ने मौलानाओं को दिखाया आईना. (फाइल फोटो)

विशाल कुमार/सहरसा : बिहार के सहरसा में भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) नेता कार्तिक सिंह के आवास पर पहुंचे बीजेपी के राष्ट्रीय प्रवक्ता शाहनवाज हुसैन ने महबूबा मुफ्ती के द्वारा भगवा जर्सी मामले में दिए गए बयान पर प्रतिक्रिया दी है. उन्होंने कहा कि चुनाव की गिनती शुरू हुई थी और महबूबा हरे रंग का कपड़ा पहनी थी, लेकिन उनकी जीत नहीं हुई थी. महबूबा अगर जीत जाती और भगवा पहनकर हार जाती तब ब्लेम करती. 

टीएमसी सांसद नुसरत जहां के सिंदूर और बिंदी लगाने पर उलेमाओं के द्वारा जारी फतवा पर भी बीजेपी नेता ने अपनी प्रतिक्रिया दी है. उन्होंने कहा कि मजहब इस्लाम है, लेकिन संस्कृति एक है. महाराष्ट्र और मध्यप्रदेश में आज भी मुस्लिम महिलाएं मंगलसूत्र पहनती हैं.

शाहनवाज हुसैन ने कहा कि कोसी में हम बैठे हैं. यहां बड़ी तादाद में लोग छठ में भी शामिल होते हैं. इसलिए पहनावे पर विवाद सही नहीं है. उन्होंने कहा कि अगर फिल्मों में काम करना गुनाह है तो जहां मुस्लिम मुल्क है, वहां फिल्म बनती है या नहीं? इस्लामिक मुल्क पाकिस्तान, जॉर्डन, ओमान सहित कई देशों में फिल्म बनती है.

अगर फिल्मों में काम करना गुनाह है तो जो मौलाना टीवी पर बयान देते हैं, क्या वह इस्लाम में जायज है? उन्होंने कहा कि मैंने तो बचपन में सुना था कि फोटो खिंचवाना भी मना है, लेकिन फिर भी मौलाना टीवी पर क्यों आते हैं? छोटे पर्दे पर मौलाना साहब आ सकते हैं तो 70 एमएम के पर्दे पर अगर कोई आ गया तो एतराज क्यों?

जम्मू-कश्मीर पर उन्होंने कहा कि हमारे गृह मंत्री का पहला दौरा जम्मू-कश्मीर का था. 30 साल के बाद एक बार भी किसी ने बंद बुलाने की हिम्मत नहीं की. हम जम्मू, लद्दाख और कश्मीर के लोगों से बराबर का न्याय करें. अमन पसंद कश्मीरियों के लिए नरेंद्र मोदी अमृत हैं और आतंकवादियों के लिए नरेंद्र मोदी की सरकार उसके माथे पर मौत लिख देगी. कश्मीर में धरा-370 भावनाओं से जुड़ा है.