बिहार: मानव श्रृंखला पर RJD ने साधा निशाना, कहा- केवल 'इमेज' बनाने की रणनीति

शिवानंद तिवारी ने कहा कि यह केवल 'इमेज' बनाने की रणनीति है. साथ ही यह केवल राज्य के लोगों से असली मुद्दों से भटकाना है. 

 बिहार: मानव श्रृंखला पर RJD ने साधा निशाना, कहा- केवल 'इमेज' बनाने की रणनीति
शिवानंद तिवारी ने कहा कि सरकार लोगों का ध्यान असली मुद्दों से भटकाना चाहती है. (फाइल फोटो)

पटना: बिहार में जल-जीवन-हरियाली के समर्थन और नशा-दहेज विरोध जैसे सामाजिक मुद्दों पर लोगों को जागरूक करने के मकसद से 19 जनवरी को राज्यभर में बनाई जा रही मानव श्रृंखला में मुख्य विपक्षी दल राष्ट्रीय जनता दल (RJD) शामिल नहीं होगा. पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष जगदानंद सिंह ने मंगलवार को दो टूक कहा कि 'मानव श्रृंखला केवल दिखावे की बात है. असली मकसद राजनीतिक स्वार्थ है. इसमें आरजेडी के जनप्रतिनिधि भाग नहीं लेंगे.'

उन्होंने कहा, 'जल-जीवन-हरियाली कार्यक्रम को प्रदेश की राजनीतिक, आर्थिक, शैक्षणिक और कानून-व्यवस्था के निराशाजनक परिदृश्य से ध्यान भटकाने की कवायद मात्र है.' 

पार्टी के वरिष्ठ नेता शिवानंद तिवारी ने कहा कि यह केवल 'इमेज' बनाने की रणनीति है. उन्होंने कहा कि आखिर यह जल-जीवन-हरियाली अभियान क्या पहले नहीं चलता था. उन्होंने कहा कि यह केवल राज्य के लोगों का ध्यान असली मुद्दों से भटकाना है. 

आरजेडी सूत्रों का कहना है कि अब तक पार्टी विधायकों और विधान पार्षदों को आमंत्रण नहीं मिला है. पार्टी का रुख इस कार्यक्रम से दूरी बनाए रखने का है. उल्लेखनीय है कि बिहार में अगले 19 जनवरी को बनने वाली मानव श्रृंखला 16 हजार 298 किलोमीटर लंबी होगी. इस कार्यक्रम के आयोजन के लिए शिक्षा विभाग को जिम्मेदारी दी गई है. 

बिहार में बहुचर्चित जल-जीवन-हरियाली मिशन का काम इन दिनों जोरों से चल रहा है. बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (Nitish Kumar) अपने इस खास मिशन को लेकर इन दिनों जल जीवन हरियाली यात्रा के दौरान लगातार राज्य के सभी जिलों और प्रखंडों का भ्रमण कर रहे हैं. 

इस अभियान के तहत पहले चरण में प्रदेश के सभी जिलों, प्रखंडों और पंचायत स्तर पर कम से एक योजना की शुरुआत की गई है. योजना के मुताबिक जल-जीवन-हरियाली मिशन में नौ क्षेत्रों में काम होंगे.

सरकार के 12 विभागों को तीन साल में योजना को पूरा करना होगा. तीन साल के दौरान नौ क्षेत्रों में निर्धारित लक्ष्य को पूरा करने को 24 हजार 524 करोड़ रुपए खर्च किए जाएंगें. उल्लेखनीय है कि वर्ष 2017 में 21 जनवरी को शराबबंदी के पक्ष में चार करोड़ लोगों के साथ, जबकि 21 जनवरी, 2018 को बाल विवाह और दहेज प्रथा के खिलाफ 14 हजार किलोमीटर लंबी मानव श्रृंखला बनाई गई थी, जो अपने आप में एक रिकॉर्ड है. 

अब 19 जनवरी, 2020 को दहेज प्रथा एवं बाल विवाह, शराबबंदी और जल-जीवन-हरियाली अभियान को लेकर मानव श्रृंखला बनाने का कार्यक्रम है. इस बार 16 हजार किलोमीटर लंबी मानव श्रृंखला बनाने का लक्ष्य है.

उल्लेखनीय है कि मानव श्रृंखला का मुख्य आयोजन पटना के गांधी मैदान में होगा. सूत्रों के मुताबिक इसमें मुख्यमंत्री व मंत्री समेत प्रदेश के जनप्रतिनिधि, नौकरशाह और प्रतिष्ठित नागरिक व आम लोग शामिल होंगे.