close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

संगठन चुनाव से पहले RJD ने लालू यादव को घोषित किया सुप्रीमो, BJP बोली- बंद करे ढोंग

आरजेडी नेता ने कहा है कि जेल में रहते हुए राष्ट्रीय अध्यक्ष के काम में कोई परेशानी नहीं होती है. राष्ट्रीय अध्यक्ष होने के लिए सुबह से शाम तक दफ्तर में बैठने की जरूरत नहीं है. 

संगठन चुनाव से पहले RJD ने लालू यादव को घोषित किया सुप्रीमो, BJP बोली- बंद करे ढोंग
लालू प्रसाद यादव ही होंगे आरजेडी के अगले अध्यक्ष. (फाइल फोटो)

पटना : राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) के राष्ट्रीय अध्यक्ष का चुनाव 12 दिसंबर को होगा, लेकिन यह चुनाव बस रस्म अदायगी भर ही है. क्योंकि पार्टी के वरिष्ठ नेता शिवानंद तिवारी ने घोषणा कर दी है कि लालू यादव ही पार्टी के अगले राष्ट्रीय अध्यक्ष होंगे. ऐसे में सवाल उठना लाजमी है कि आखिर संगठन चुनाव का मतलब क्या है? वहीं, भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) ने आरजेडी को लोकतांत्रिक पार्टी होने का ढोंग नहीं करने की सलाह दे डाली है.

लालू ही होंगे आरजेडी के अगले राष्ट्रीय अध्यक्ष. पार्टी के वरिष्ठ नेता शिवानंद तिवारी ने इस बात की घोषणा कर दी है. लालू प्रसाद के जेल में होने के कारण कयास लगाए जा रहे थे कि शायद किसी और वरिष्ठ नेता को अध्यक्ष बनने का मौका मिल सकता है. चर्चा राबड़ी देवी के नाम की भी थी, लेकिन शिवानंद तिवारी ने साफ कर दिया है कि लालू यादव ही पार्टी के अगले राष्ट्रीय अध्यक्ष होंगे.

आरजेडी नेता ने कहा है कि जेल में रहते हुए राष्ट्रीय अध्यक्ष के काम में कोई परेशानी नहीं होती है. राष्ट्रीय अध्यक्ष होने के लिए सुबह से शाम तक दफ्तर में बैठने की जरूरत नहीं है. शिवानंद तिवारी के बयान के बाद सियासत भी तेज हो गयी है.

कांग्रेस ने लालू प्रसाद यादव को फिर से राष्ट्रीय अध्यक्ष बनाए जाने की घोषणा को आरजेडी का अंदरुनी मामला बताया है. पार्टी के एमएलसी प्रेमचन्द्र मिश्र ने कहा है कि कांग्रेस में राष्ट्रीय अध्यक्ष के चुनाव के लिए चुनावी प्रक्रिया है. कांग्रेस के देशभर के डेलिगेट्स राष्ट्रीय अध्यक्ष का चुनाव करते हैं. हमारी पार्टी में पहले से राष्ट्रीय अध्यक्ष तय नहीं रहता है.

वहीं, बीजेपी ने लालू यादव को चुनाव से पहले ही राष्ट्रीय अध्यक्ष घोषित किये जाने पर सवाल खड़ा किया है. पार्टी के उपाध्यक्ष मृत्युंजय झा ने कहा है कि आरजेडी खुद को लोकतांत्रिक पार्टी दिखाने का नाटक बंद करे. आरजेडी एक पॉकेट की पार्टी है. जब संगठन का चुनाव हुआ ही नहीं तो शिवानंद तिवारी ने पहले ही लालू प्रसाद यादव को राष्ट्रीय अध्यक्ष कैसे घोषित कर दिया. हकीकत यह है कि बीजेपी ही देश में लोकतांत्रिक पार्टी है. यही वजह है कि बीजेपी की लोकप्रियता लगातार बढ़ती जा रही है.

जेडीयू ने भी शिवानंद तिवारी के बयान पर हमला बोला है. पार्टी के प्रवक्ता राजीव रंजन ने कहा है कि आरजेडी में कोई भी पद पहले परिवार के लिए ही होता है. संगठन चुनाव महज दिखावा है. जेडीयू में आंतरिक लोकतंत्र है. शरद यादव पहले पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष थे. अब नीतीश कुमार पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं. आगे भी पार्टी में अध्यक्ष का चुनाव चुनावी प्रक्रिया के तहत ही होगा.

आरजेडी के लिए लालू प्रसाद को चुनाव से पहले राष्ट्रीय अध्यक्ष घोषित करना, पार्टी के लिए फजीहत का विषय बन गया है. वैसे मामला दिलचस्प इसलिए भी है क्योंकि पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष का चेहरा लगातार बदलता रहता है, लेकिन राष्ट्रीय अध्यक्ष का चेहरा अब तक नहीं बदला.

लाइव टीवी देखें-: