close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

बिहार: रावण वध में बीजेपी की गैरमौजूदगी पर शिवानंद तिवारी ने कसा तंज, BJP ने किया पलटवार

 आरजेडी के वरिष्ठ नेता शिवानंद तिवारी ने बयान दिया है. शिवानंद तिवारी ने कहा है कि इस कार्यक्रम से बीजेपी का दूरी बनाने का धार्मिक कारण नहीं बल्कि राजनीतिक कारण है. उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी पटना की मेयर सीता साहू और चार विधायक दो सांसद का नहीं आना यह स्पष्ट करता है कि बीजेपी, नीतीश कुमार को वह भाव नहीं दे रही है. 

बिहार: रावण वध में बीजेपी की गैरमौजूदगी पर शिवानंद तिवारी ने कसा तंज, BJP ने किया पलटवार
शिवानंद तिवारी ने कहा है कि इस कार्यक्रम से बीजेपी का दूरी बनाने का राजनीतिक कारण है.

पटना: बिहार की राजधानी पटना में रावण वध के बहाने नई राजनीतिक बहस की शुरुआत हो गई है. इस आयोजन में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार समय से तो पहुंचे लेकिन बीजेपी का कोई नेता इसमें शामिल नहीं हुआ. मुख्यमंत्री के साथ हमेशा दिखने वाले उप मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी तो इस कार्यक्रम से नदारद रहे.

वहीं, इस मुद्दे पर अब आरजेडी के वरिष्ठ नेता शिवानंद तिवारी ने बयान दिया है. शिवानंद तिवारी ने कहा है कि इस कार्यक्रम से बीजेपी का दूरी बनाने का धार्मिक कारण नहीं बल्कि राजनीतिक कारण है. उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी पटना की मेयर सीता साहू और चार विधायक दो सांसद का नहीं आना यह स्पष्ट करता है कि बीजेपी, नीतीश कुमार को वह भाव नहीं दे रही है. 

साथ ही शिवानंद तिवारी ने कहा कि नीतीश कुमार को 2019 के चुनाव के समय भाव मिला. दो सीट वालों को 17 सीट मिला. नीतीश कुमार ने जिस तरह नरेंद्र मोदी और आरएसएस को अपमानित किया है, उसका उधार बीजेपी लौटा रही है.
वहीं, पार्टी के प्रवक्ता नवल यादव ने कहा है कि अभी दुख की घड़ी है. पटना में जलजमाव और बिहार में बाढ़ के कारण पार्टी के नेता-कार्यकर्ता लोगों को राहत पहुंचाने में लगे हैं. इस वजह से बीजेपी नेता रावण वध में शामिल नहीं हुए.

आरजेडी या विपक्ष के जो भी नेता इसमें राजनीति कर रहे हैं तो यह राजनीति का विषय नहीं है. उन्होंने कहा कि  पहले जनता जरूरी है और उसके बाद ही कोई कार्यक्रम महत्वपूर्ण है. इसको माननीय दृष्टिकोण से देखना चाहिए.

साथ ही उन्होंने कहा कि रावण वध कार्यक्रम कोई सरकारी कार्यक्रम नहीं था बल्कि एक संस्था के द्वारा किया गया कार्यक्रम था. मुख्यमंत्री पूरे बिहार के होते हैं और निमंत्रण मिलने पर जाने के लिए वो बाध्य हैं.