मांझी के धरने में नहीं रखा गया सोशल डिस्टेंसिंग का ख्याल, पूछने पर नहीं दे पाए जवाब

बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी आज धरने पर अपनी मांगों को लेकर बैठे. इस दौरान उन्होंने कहा कि दो-तीन मुद्दे आज ज्वलंत हैं जिसपर सरकार की अनदेखी के चलते बहुत बड़ा घोटाला हुआ है. 

मांझी के धरने में नहीं रखा गया सोशल डिस्टेंसिंग का ख्याल, पूछने पर नहीं दे पाए जवाब
बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी आज धरने पर अपनी मांगों को लेकर बैठे. (फाइल फोटो)

पटना: बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी आज धरने पर अपनी मांगों को लेकर बैठे. इस दौरान उन्होंने कहा कि दो-तीन मुद्दे आज ज्वलंत हैं जिसपर सरकार की अनदेखी की वजह से बहुत बड़ा घोटाला हुआ है. 

साथ ही उन्होंने कहा कि क्वारंटाइन सेंटर में मजदूरों को बिना किसी जांच के रखा गया. जहां 200 मजदूरों को रखने की बात कही गई वहां 50 मजदूर रखे गए. संख्या बढ़ा कर बिल बनाया गया. इसकी जांच होनी चाहिए. मुख्यमंत्री से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग से वार्ता हुई तो मैंने कहा था कि प्राधिकारी के ऊपर सभी जिम्मेदारी क्यों दे दी गई है.

आगे उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री ने दूसरे दिन ही जन प्रतिनिधियों को रखने की बात कही थी लेकिन अधिकारियों ने नहीं रखा जिसके कारण घोटाला हुआ है. मनरेगा में काम हो रहा है उसमें लोगो को काम नहीं मिल रहा है क्योंकि मशीन से सारा काम हो रहा है.

वहीं, जीतन राम मांझी के धरने पर सोशल डिस्टेंसिंग का ख्याल नहीं रखा गया. जिसके बारे में जब उनसे मीडिया ने पूछना चाहा तो वो इसका कोई जवाब नहीं दे पाए. प्रदेश अध्यक्ष से ये सवाल करने की बात कर मांझी ने प्रश्न को अनदेखा कर दिया.