close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

रांची में महिलाओं के लिए स्पेशल बस, अलबर्ट एक्का चौक से राजेंद्र चौक तक सफर

एक सितंबर को रांची के महात्मा गांधी रोड में ई-रिक्शा पर प्रतिबंध लगाने के बाद नगर बस सेवा की शुरुआत की गई थी.

रांची में महिलाओं के लिए स्पेशल बस, अलबर्ट एक्का चौक से राजेंद्र चौक तक सफर
अलबर्ट एक्का चौक से राजेंद्र चौक तक का होगा सफर.

रांची : झारखंड की राजधानी रांची में महिलाओं के लिए स्पेशल बस सेवा (Women Bus Service) शुरू होने वाली है. बुधवार यानी आज अल्बर्ट एक्का चौक से राजेंद्र चौक तक स्पेशल महिला बस सेवा शुरू होगी. यह एक ड्रेस रिहर्सल की तरह चलेगी. अगर व्यवस्था कारगर हुई तो फिर नियमित रूप से बस चलाई जाएगी और जरूरत के मुताबिक उनकी संख्या भी बढ़ाई जाएगी.

दरअसल, एक सितंबर को रांची (Rnachi) के महात्मा गांधी रोड में ई-रिक्शा पर प्रतिबंध लगाने के बाद नगर बस सेवा की शुरुआत की गई थी. बस का टिकट पांच रुपए रखा गया था, जो लोगों को काफी पसंद आ रहा है.

अलबर्ट एक्का चौक से लेकर राजेंद्र चौक तक ई-रिक्शा के चलते जाम लगा रहता था, जिससे अब लोगों को छुटकारा मिल गया है. सिटी बस की सफलता के बाद अब नगर निगम ने शहर की आधी आबादी को भी इसका पूरा लाभ देने का फैसला लिया है. शुरुआत में 2 स्पेशल महिला बस शुरू किया जाएगा और अगर ये सफल रहा तो बसों की संख्या बढ़ाई जाएगी.

राज्य के नगर विकास मंत्री सीपी सिंह का कहना है, 'महिलाओं की परेशानी को देखते हुए ये फैसला लिया गया है, हमारी कोशिश होगी कि महिला बस में कंडक्टर भी महिला ही हो, जिससे महिलाएं खुद को ज्यादा सुरक्षित महसूस करेंगी.' महिला बस सेवा को लेकर छात्राओं में भी उत्साह है. छात्राओं का कहना है, 'कॉलेज टाइम में बस में काफी भीड़ रहती है, जिससे उन्हें कई बार बस का इंतजार करना पड़ता है. महिला बस सेवा शुरू होने से ऐसा नहीं करना होगा.'

लाइव टीवी देखें-:

रांची की मेयर आशा लकड़ा का कहना है, 'हमलोग काफी दिन से प्लान कर रहे थे, जिससे महिलाओं का सफर सुरक्षित और सुलभ हो सके. इसलिए हमने महिला बस चलाने का फैसला लिया है.' रांची में महिला बस सेवा 6 साल पहले भी शुरू की गई थी, लेकिन सवारी नहीं मिलने की वजह से घाटा होने लगा और फिर महिला बस सेवा बंद कर दी गई. नाकामी से सबक लेते हुए रांची नगर निगम ने ऐसी जगहों का चयन किया है जहां महिला यात्रियों की संख्या सबसे अधिक होती है, जिससे घाटा उठाने की नौबत नहीं आए.

-- Sameer Bajpai, News Desk