बिहार: आरजेडी-कांग्रेस में अजीब हालात, प्रवक्ता ही काट रहे हैं अध्यक्षों का बयान

कांग्रेस के तीन कार्यकारी अध्यक्षों के बयान को उनकी पार्टी के प्रवक्ता राजेश राठौड़ ने खारिज करते हुए यह कहा कि अध्यक्ष मदन मोहन झा के निर्देश के मुताबिक उपेन्द्र कुशवाहा के प्रदर्शन को कांग्रेस का समर्थन हासिल है.

बिहार: आरजेडी-कांग्रेस में अजीब हालात, प्रवक्ता ही काट रहे हैं अध्यक्षों का बयान
आरजेडी और कांग्रेस के अध्यक्षों के बयानों को खारिज कर रहे हैं पार्टी के प्रवक्ता. (फाइल फोटो)

पटना: बिहार में 13 तारीख को उपेन्द्र कुशवाहा (Upendra Kushwaha) के होने वाले प्रदर्शन में शामिल होने को लेकर आरजेडी (RJD) और कांग्रेस में अजीबोगरीब हालात पैदा हो गये हैं. दोनों ही दलों के प्रवक्ता अपने ही अध्यक्ष की बातों को सिरे से खारिज करते नजर आ रहे हैं. आरजेडी अध्यक्ष रामचन्द्र पूर्वे के बयान को उनकी ही पार्टी के प्रवक्ता चितरंजन गगन ने खारिज कर दिया था.

वहीं, आज कांग्रेस के तीन कार्यकारी अध्यक्षों के बयान को उनकी पार्टी के प्रवक्ता राजेश राठौड़ ने खारिज करते हुए यह कहा कि अध्यक्ष मदन मोहन झा के निर्देश के मुताबिक उपेन्द्र कुशवाहा के प्रदर्शन को कांग्रेस का समर्थन हासिल है.

उपेन्द्र कुशवाहा के नेतृत्व में 13 नवंबर को पूरे बिहार में महागठबंधन का प्रदर्शन होने वाला है. लेकिन प्रदर्शन में शामिल होने को लेकर महागठबंधन के सहयोगी दलों के बीच गजब का सियासी ड्रामा चल रहा है. दरअसल, 11 तारीख को आरजेडी अध्यक्ष रामचन्द्र पूर्वे ने संगठन चुनाव का हवाला देते हुए प्रदर्शन में शामिल होने से इंकार कर दिया था. लेकिन रामचन्द्र पूर्वे के बयान के ठीक कुछ घंटे बाद ही पार्टी के प्रवक्ता चितरंजन गगन ने प्रेस रिलीज जारी कर यह सूचना दी कि आरजेडी 13 तारीख को होने वाले प्रदर्शन में शामिल होगी. पार्टी के प्रवक्ता ने अपने अध्यक्ष का बयान काट दिया.

मामला सिर्फ आरजेडी का ही नहीं रहा. कांग्रेस के तीन कार्यकारी अध्यक्षों ने भी प्रदर्शन की जानकारी नहीं होने का हवाला देते हुए प्रदर्शन में शामिल होने में असमर्थता जतायी थी. उनका दावा था कि कांग्रेस ने अभी हाल फिलहाल में ही 15 तारीख तक के आंदोलन को स्थगित किया है. ऐसे में पार्टी की ओर से अभी किसी तरह के प्रदर्शन में शामिल होने की जानकारी नहीं है. कांग्रेस पार्टी अपना प्रदर्शन 15 नवंबर के बाद करेगी. लेकिन तीनों कार्यकारी अध्यक्ष के बयान को उनकी ही पार्टी के प्रवक्ता राजेश राठौड़ ने काट दिया है.

राजेश राठौड़ ने कहा है कि अध्यक्ष मदन मोहन झा के निर्देश के मुताबिक 13 तारीख को उपेन्द्र कुशवाहा के नेतृत्व में होने वाले महागठबंधन के प्रदर्शन को कांग्रेस का समर्थन और सहयोग प्राप्त है. वहीं, 13 तारीख को केन्द्र और राज्य सरकार विरोधी कार्यक्रम को लेकर कांग्रेस और आरजेडी में मचे घमासान पर जेडीयू ने चुटकी ली है. जेडीयू प्रवक्ता राजीव रंजन ने कहा कि महागठबंधन के प्रदर्शन के बहाने दोनों दलों के अंदरुनी हालात की पोल खुल रही है. पार्टी के ही प्रवक्ता उनके अध्यक्षों के बयान काट रहे हैं. ऐसे में अंदाजा लगाना मुश्किल नहीं है कि महागठबंधन बिखराव की ओर है.

महागठबंधन में जारी खींचतान के बीच यह देखना दिलचस्प होगा कि उपेन्द्र कुशवाहा के नेतृत्व में होने वाले प्रदर्शन में कांग्रेस और आरजेडी के कौन-कौन से नेता शामिल होते हैं और प्रदर्शन को सफल बनाने के लिए दोनों दलों की ओर से कैसा योगदान रहता है.