close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

भारत-नेपाल बॉर्डर पर दोनों देशों के जवानों ने मनायी दीपावली, एक-दूसरे को दी बधाई

दोनों देशों के जवानों ने पिलर स्तम्भ के पास दिए जलाए और बेटी-रोटी की संबंध को और मजबूत कर दिया. बॉर्डर पर पहली बार ऐसा नजारा देखने को मिल रहा था. एसएसबी के जवानों ने मित्र राष्ट्र नेपाल के सैनिकों के साथ मिलकर बॉर्डर पर खूब पटाखे जलाए.

भारत-नेपाल बॉर्डर पर दोनों देशों के जवानों ने मनायी दीपावली, एक-दूसरे को दी बधाई
भारत-नेपाल सीमा पर जवानों ने मनायी दीपावली.

मोतिहारी: भारत-नेपाल बॉर्डर पर भी दीपवाली (Diwali 2019) की धूम धेकने को मिली. यहां जवानों ने कुछ अलग ही तरीके की दीपावली मनायी. बॉर्डर के पिलर संख्या 393 पर भारत और नेपाल (Indo-Nepal) दोनों देशों के सैनिकों ने मिलकर दीपावली मनाई और एक-दूसरे को मिठाई खिलाकर शुभकामनाएं दी. भारत के एसएसबी जवान दीप और तेल लेकर आए वहीं, नेपाल के जवानों ने दीप में बाती लगाई. दोनों देश के जवानों एक साथ दिए जलाए और भारत नेपाल के बॉर्डर को दीपों से जगमग कर दिया.

दोनों देशों के जवानों ने पिलर स्तम्भ के पास दिए जलाए और बेटी-रोटी की संबंध को और मजबूत कर दिया. बॉर्डर पर पहली बार ऐसा नजारा देखने को मिल रहा था. एसएसबी के जवानों ने मित्र राष्ट्र नेपाल के सैनिकों के साथ मिलकर बॉर्डर पर खूब पटाखे जलाए. एक दूसरे को मिठाई खिलाकर दीपवाली की बधाई भी दी.

जवान दीपवाली पर परिवार से दूर हैं, इसका उन्हें दुःख तो है लेकिन उससे ज्यादा खुशी और गर्व है कि वो बॉर्डर ड्यूटी करते हुए नेपाल के मित्रों के साथ दीपवाली मना रहे हैं. जवानों को देखकर साफ लग रहा था कि ये जवान अपने परिवार से दूर होकर भी कितने खुश हैं. उनकी इतनी बड़ी त्याग के बाद हम पूरे देश सुरक्षित तरीके से हम दीपवाली की खुशी से मना पाते हैं.

ज्ञात हो कि दीपावली के दिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सीमा पर जवानों के साथ समय बिताया. हर साल की तरह इस बार भी प्रधानमंत्री ने भारतीय सैनिकों के साथ दिवाली मनाई. पीएम मोदी रविवार को राजौरी पहुंचे. यहां LoC के पास भारतीय सैनिकों के साथ दिवाली सेलिब्रेट किया. खास बात यह भी थी कि जम्‍मू-कश्‍मीर (Jammu Kashmir) से अनुच्‍छेद 370 (Article 370) हटाए जाने के बाद पहली बार प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कश्मीर गए थे.