close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

पटना: शाम को अंधेरे में डूब जाती हैं अधिकांश सड़कें, घर से निकलने में लगता है डर

प्रदेश का सबसे बड़ा शहर पटना, बिहार में बिजली की आमद के बीच शाम होते ही अंधेरे में डूब जाता है. कई वीआईपी इलाकों की गलियां और सड़कें इन दिनों घनघोर अंधेरे में हैं.

पटना: शाम को अंधेरे में डूब जाती हैं अधिकांश सड़कें, घर से निकलने में लगता है डर
पटना के अधिकांश शहरों में खराब पड़े हैं स्ट्रीट लाइट्स.

पटना : बिहार की राजधानी पटना (Patna) के कई हिस्से शाम होते ही अंधेरे में डूब जाते हैं. अंधेरा ऐसा कि शाम के बाद घर से निकलने में भी डर लगता है. हालांकि साल भर पहले पटना में 80 हजार स्ट्रीट लाइट्स लगाने की बात कही गई थी. स्ट्रीट लाइट्स लगाई भी गईं, लेकिन साल भर होते-होते अब पटना की गलियां फिर से गुप अंधेरे में है. एकबार फिर निगम ने राजधानी की गलियों और सड़कों को रौशन करने का दावा किया है.

प्रदेश का सबसे बड़ा शहर पटना, बिहार में बिजली की आमद के बीच शाम होते ही अंधेरे में डूब जाता है. कई वीआईपी इलाकों की गलियां और सड़कें इन दिनों घनघोर अंधेरे में हैं.

पटना म्यूजियम के पीछे बिहार राज्य अल्पसंख्यक आयोग, बिहार राज्य महिला आयोग के सामने वाली सड़कें और गलियां, छज्जू बाग में सिन्हा लाइब्रेरी रोड, कंकड़बाग, राजेन्द्र नगर, राजीव नगर में शिव मंदिर से रेलवे क्रांसिग तक शाम में पैदल चलना मुश्किल हो जाता है. आने जाने वाली गाड़ियों की लाइट ही इन गलियों को रौशन करती हैं. आसपास के लोगों का मानना है कि अंधेरा ऐसा रहता है कि घर से महिलाओं और लड़कियों का पास की दुकान तक जाना मुश्किल होता है.

उनके मुताबिक, साल भर पहले छठ के आसपास लाइट्स जरूर लगाई गई थीं, लेकिन उसका मेंटनेंस नहीं हुआ. गलियों में लाइट नहीं होने के कारण अंधेरा रहता है. जिस वजह से छिनतई और छेड़छाड़ की घटना बढ़ जाती है. हालात ऐसे हैं कि शाम ढलने के बाद महिलाओं का घर से चौक चौराहे तक जाना मुश्किल होता है.

दरअसल बीते साल एक निजी कंपनी को पटना में 80 हजार स्ट्रीट लाइट्स और बल्ब लगाने का ठेका दिया पटना नगर निगम ने दिया था. इसके बाद उन इलाकों की गलियां और सड़कें रौशन हुईं, जहां कभी लाइट्स नहीं पहुंची थी. नगर विकास विभाग ने गलियों, सड़कों को रौशन करने के मकसद से साल भर पहले राजधानी में 80 हजार स्ट्रीट लाइट्स लगाने का लक्ष्य तय किया था.

पटना नगर निगम के जनसंपर्क अधिकारी संजय कुमार भी मानते हैं कि पटना में स्ट्रीट लाइट्स काम नहीं कर रही हैं, लेकिन इसके लिए वो बरसात को जिम्मेदार मानते हैं. संजय कुमार के मुताबिक, पटना को अंधेरे का सामना नहीं करने पड़े इसके लिए निगम की 24 टीम काम कर रही है. एक हेल्प लाइन नंबर 6206965630 लोगों की सुविधा के लिए है. अगर बिजली पोल में लगी लाइट और स्ट्रीट लाइट काम नहीं कर रही है तो लोग इस नंबर पर फोन कर संपर्क साध सकते हैं. स्ट्रीट लाइट को दुरूस्त कर लिया जाएगा.

लाइव टीवी देखें-: