close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

डूबने से युवक की मौत, एम्बुलेंस नहीं मिलने पर विधायक ने अपनी गाड़ी में पहुंचाया अस्पताल

बच्चे को तालाब में डूबता देख लोगों ने हंगामा मचाया. गांव के लोग आए और पानी मे डूबे बच्चों को रेस्क्यू कर बाहर निकाले. इस दौरान छात्र बेहोश था, उसकी सांसें चल रही थी.

डूबने से युवक की मौत, एम्बुलेंस नहीं मिलने पर विधायक ने अपनी गाड़ी में पहुंचाया अस्पताल
छात्र की डूबने से मौत.

घाटशिला : झारखंड के घाटशिला के बहरागोड़ा में तालाब में डूबने से एक 17 वर्षीय छात्र की मौत हो गई. घटना बरशोल थाना क्षेत्र के पंचरुलिया गांव की है, जहां फूल तोड़ने गए छात्र की तालाब में डूब जाने से मौत हो गई. घटना के बारे में बताया जा रहा है कि अभिषेक अपने घर से जामबनी हाई स्कूल के पास स्थित तालाब में लगे फूल को तोड़ने के लिए गया था, जहां गहरे पानी में जाने से वह डूब गया.

बच्चे को तालाब में डूबता देख लोगों ने हंगामा मचाया. गांव के लोग आए और पानी मे डूबे बच्चों को रेस्क्यू कर बाहर निकाले. इस दौरान छात्र बेहोश था, उसकी सांसें चल रही थी.

घटना की सूचना पाकर बहरागोड़ा के युवा विधायक कुणाल षाड़ंगी मौके पर पहुंचे. छात्र को अस्पताल पहुंचाने के लिए वाहन की व्यवस्था करने लगे. एम्बुलेंस को फोन किया गया, परंतु समय पर नहीं पहुंचा.  इसके बाद विधायक ने अपनी ही गाड़ी से इसे तुरंत बहरागोड़ा प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र पहुंचाया, लेकिन वहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया.

त्वरित प्रयास के बावजूद बच्चे को नहीं बचा पाने की घटना से विधायक कुणाल काफी दुखी हो गए. घटना की जानकारी पाकर परिजन भी अस्पताल पहुंचे. परिजनों का रो-रो कर बुरा हाल हो गया. घटना की सूचना पाते ही बरशोल थाना की पुलिस भी अस्पताल पहुंचकर शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया.

विधायक कुणाल षाड़ंगी ने कहा कि गांव के मुखिया और ग्रामीणों के द्वारा मुझे जैसे ही घटना की जानकारी मिली कि मैं तुरंत घटनास्थल पर पहुंचा. मेरे जाने से पहले ही ग्रामीणों ने बच्चे को तालाब से बाहर निकाल लिया था. अस्पताल लाने के लिए गाड़ी की व्यवस्था में लगे थे. 108 पर भी फोन किया गया, लेकिन एम्बुलेंस या अन्य वाहन के पहुंचने में हो रही देरी के बाद मैंने तुरंत बिना समय गवाएं बच्चे को अपनी गाड़ी में अस्पताल पहुंचाया. लेकिन बच्चे को नहीं बचाया जा सका.