बिहार: विपक्ष के वॉकआउट के बीच अनुपूरक बजट पास, 'जल-जीवन-हरियाली' को सबसे ज्यादा फंड

दूसरे सत्र में अनुपूरक बजट पर चर्चा शुरू हुई, तो शिक्षा विभाग के बजट पर वाद विवाद हुआ, जिसमें विपक्ष की ओर से सरकार को घेरने की कोशिश की गयी. समान काम, समान वेतन का मुद्दा भी विपक्ष ने उठाया.

बिहार: विपक्ष के वॉकआउट के बीच अनुपूरक बजट पास, 'जल-जीवन-हरियाली' को सबसे ज्यादा फंड
बिहार विधानसभा के बाहर प्रदर्शन करते आरजेडी और कांग्रेस के नेता. (तस्वीर- ANI)

पटना: बिहार सरकार (Bihar Government) का दूसरा अनुपूरक बजट (Bihar Budget) विपक्ष के वॉकआउट के बीच विधानसभा से पास हो गया. 12457.61 करोड़ में सबसे ज्यादा फोकस जल-जीवन-हरियाली अभियान पर किया गया है. 1688 करोड़ रुपये इसके लिए रखे गये हैं. अनुपूरक बजट में शिक्षा पर चर्चा हुई, जिसमें विपक्ष ने सरकार को घेरा, लेकिन जब सरकार का जवाब होने लगा, तो विपक्षी सदस्य सदन से बाहर चले गये.

बिहार विधानसभा (Bihar Assembly) का शीतकालीन सत्र चल रहा है. सरकार ने अपना दूसरा अनुपूरक बजट सदन के पटल पर रखा. विपक्ष की गैरमौजूदगी में बजट पास हो गया.

ये भी पढ़ें- बिहार: उपेंद्र कुशवाहा के अनशन का तीसरा दिन आज, अब तक नहीं पहुंचे तेजस्वी-तेजप्रताप

शीतकालीन सत्र के चौथे दिन एक सत्र में विधानसभा की कार्यवाही चली. इससे पहले के सभी सत्र विपक्ष के हंगामे भी भेंट चढ़ गये. दूसरे सत्र में अनुपूरक बजट पर चर्चा शुरू हुई, तो शिक्षा विभाग के बजट पर वाद विवाद हुआ, जिसमें विपक्ष की ओर से सरकार को घेरने की कोशिश की गयी. समान काम, समान वेतन का मुद्दा भी विपक्ष ने उठाया.

विपक्ष के सवालों का जवाब शिक्षा मंत्री कृष्ण नंदन वर्मा ने अपने अंदाज में दिया और सरकार की उपलब्धियां गिनाईं. वहीं, संसदीय कार्यमंत्री श्रवण कुमार ने विपक्ष को निशाने पर लिया.

बजट पर सरकार में शामिल भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के नेताओं ने संतोष जताया और कहा कि इससे विकास के काम आगे बढ़ेंगे. बिहार सरकार के अनूपूरक बजट से साफ है कि सरकार का मुख्य फोकस अब जलवायु परिवर्तन के प्रभावों को कम करना है, ताकि आनेवाले समय में राज्य के लोगों को गंभीर स्थिति का सामना नहीं करना पड़े. इसके लिए पानी और पेड़ प्रबंध सरकार की प्राथमिकता में है.