close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

ये कैसे हो सकता है कि एक कैबिनेट मंत्री लगातार फरार हैं और किसी को पता नहीं- सुप्रीम कोर्ट

बिहार के बहुचर्चित मुजफ्फरपुर बालिका गृह कांड मामले में सुनवाई करते हुए सुप्रीम कोर्ट ने बिहार पुलिस को लताड़ लगाई है और पूछा है कि मंजू वर्मा की आर्म्स एक्ट में अब तक गिरफ्तारी क्यों नहीं हुई है?

ये कैसे हो सकता है कि एक कैबिनेट मंत्री लगातार फरार हैं और किसी को पता नहीं- सुप्रीम कोर्ट
सुप्रीम कोर्ट इस मामले की सुनवाई अब 27 नवंबर को करेगी. (फाइल फोटो)

नई दिल्ली/पटना: बिहार के बहुचर्चित मुजफ्फरपुर बालिका गृह कांड मामले में सुनवाई करते हुए सुप्रीम कोर्ट ने बिहार पुलिस को लताड़ लगाई और पूछा कि मंजू वर्मा की आर्म्स एक्ट में अब तक गिरफ्तारी क्यों नहीं हुई है? सुप्रीम कोर्ट ने इस मामले में डीजीपी से 26 नवंबर को पेश होकर कारण बताने को कहा है. इसका अर्थ है कि डीजीपी को खुद सुप्रीम कोर्ट में पेश होकर सुप्रीम कोर्ट में कारण बताना होगा. 

सुप्रीम कोर्ट ने साथ ही ये भी पूछा है कि ये कैसे हो सकता है कि एक कैबिनेट मंत्री लगातार फरार चल रही हैं और किसी को नहीं पता है कि वो कहां हैं? जस्टिस मदन.बी.लोकुर ने सुनवाई करते हुए कहा कि आपको मामले की गंभीरता को समझना होगा कि आखिर क्यों मंजू वर्मा को अब तक ट्रेस नहीं किया जा सका है.

 

 

सुप्रीम ने बिहार पुलिस को लताड़ लगाते हुए ये भी कहा है कि 'हम शॉक्ड हैं कि पूर्व मंत्री को पुलिस एक महीने से ट्रेस नहीं कर पा रही है. हम चाहते हैं कि पुलिस हमें बताए कि इतने महत्वपूर्ण शख्स तक आखिर पुलिस क्यों नहीं पुहंच पा रही है. डीजीपी को इसका कारण कोर्ट में बताना होगा.'

सुप्रीम कोर्ट इस मामले की सुनवाई अब 27 नवंबर को करेगी. आपको बता दें कि कुछ दिनों पहले मंजू वर्मा के पति चंद्रशेखर वर्मा ने कोर्ट में सरेंडर किया था. बेगूसराय कोर्ट में पेशी के दौरान उन्होंने कहा था कि मंजू वर्मा पर न्यायिक प्रक्रिया के तहत वारंट जारी हुआ है. कोर्ट की जरूरत के हिसाब से वह आत्मसमर्पण करेंगी.

इसके पहले सुप्रीम कोर्ट में इस मामले की सुनवाई के दौरान बिहार सरकार ने कोर्ट के नोटिस का जवाब देते हुए कहा था कि पूर्व मंत्री मंजू वर्मा नहीं मिल रही हैं. इसलिए पुलिस उन्हें गिरफ्तार नहीं कर पा रही है.