close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

मुजफ्फरपुर पर सवाल पूछे जाने पर सुशील मोदी ने साधी चुप्पी, अब पार्टी कर रही डैमेज कंट्रोल

आम तौर पर मीडिया में बयान या ट्वीट करने वाले उपमुख्यमंत्री सुशील मोदी ने मुजफ्फरपुर में बच्चों की मौत पर सवाल पूछे जाने पर चुप्पी साधे रखी. भारतीय जनता पार्टी और जनता दल यूनाइटेड इस मसले पर बचाव की मुद्रा में हैं.

मुजफ्फरपुर पर सवाल पूछे जाने पर सुशील मोदी ने साधी चुप्पी, अब पार्टी कर रही डैमेज कंट्रोल
भारतीय जनता पार्टी और जनता दल यूनाइटेड इस मसले पर बचाव की मुद्रा में हैं.(फाइल फोटो)
Play

पटना: बुधवार को राज्य स्तरीय बैंकर्स समिति यानि एसएलबीसी की बैठक थी. आम तौर पर मीडिया में बयान या ट्वीट करने वाले उपमुख्यमंत्री सुशील मोदी ने मुजफ्फरपुर में बच्चों की मौत पर सवाल पूछे जाने पर चुप्पी साधे रखी. भारतीय जनता पार्टी और जनता दल यूनाइटेड इस मसले पर बचाव की मुद्रा में हैं. जेडीयू प्रवक्ता राजीव रंजन के मुताबिक, जब मुजफ्फरपुर मुख्यमंत्री गए थे तो उनके साथ उपमुख्यमंत्री सुशील मोदी भी साथ थे. अगर उन्होंने कुछ नहीं बोला तो इसका मतलब ये नहीं वो इस घटना को लेकर गंभीर नहीं हैं.

बीजेपी प्रवक्ता अजीत चौधरी ने कहा कि, सुशील मोदी काफी संवेदनशील और गंभीर नेता हैं. वो यूं ही कुछ नहीं बोल देते. राज्य स्तरीय बैंकर्स समिति की बैठक थी इसलिए वहां सुशील मोदी बैंकों को लेकर बैठक कर रहे थे. आरजेडी के वरिष्ठ नेता और पूर्व वित्त मंत्री अब्दुल बारी सिद्धिकी ने कहा है कि, सुशील मोदी हर बात पर ट्वीट करते हैं ,मीडिया से बात करते हैं .ठीक है कि वो बैंकर्स के साथ उनकी बैठक थी लेकिन वो उचित फोरम पर तो अपनी बात तो कह ही सकते थे .मीडिया से वो आज दूर  भाग रहे हैं , उनकी चुप्पी सही नहीं है.कभी मीडिया के नजदीक ही रहना चाहते थे.

मुजफ्फरपुर में चमकी बुखार से मौत का सिलसिला जारी है.आज मुख्यमंत्री नीतीश कुमार औरंगाबाद, गया और नवादा का हवाई सर्वेक्षण करेंगे जबकि शाम में वो गया में पीड़ितों से मुलाकात कर हाल जानेंगे.सीएम की इस हवाई यात्रा का जहां जेडीयू और बीजेपी समर्थन कर रही है वहीं आरजेडी ने मुख्यमंत्री को नसीहत दी है और कहा है कि पटना में भी रहकर स्वास्थ्य व्यवस्था का जायजा लिया जा सकता है.

मुजफ्फरपुर में एइीएस और लू से मौत पर हाहाकार मचा हुआ है.सरकार को ये समझ में नहीं आ रहा है कि आखिर इतनी संख्या में बच्चे कैसे मौत का शिकार होते चले गए. वरिष्ठ मंत्री को जवाब देते नहीं बन रहा है और आज मुख्यमंत्री नीतीश कुमार लू प्रभावित गया,औरंगाबाद और नवादा का हवाई सर्वेक्षण करेंगे और गया में मरीजों से मिलेंगे.

जनता दल यूनाटेड के प्रवक्ता राजीव रंजन ने कहा है कि, हर कोई बच्चों की मौत से गमजदा है .हर गंभीर व्यक्ति बच्चों की मौत से मर्माहत है.राजीव रंजन के मुताबिक, मुख्यमंत्री भी घटना से मर्माहत हैं और वो आज लू प्रभावित जिलों का दौरा करेंगे.वो बोलते नहीं लेकिन इस मसले पर संवेदनशील हैं. दूसरी ओर भारतीय जनता पार्टी के प्रवक्ता अजीत चौधरी ने भी जेडीयू के बयान का समर्थन किया है और कहा है कि वो पीड़ितों से मिलकर उनका हाल चाल जानेंगे.

दूसरी ओर राष्ट्रीय जनता दल के वरिष्ठ नेता और राज्य के पूर्व वित्त मंत्री अब्दुल बारी सिद्दिकी ने सरकार को नसीहत दी है.सिद्दिकी ने कहा है कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के पास सारा अमला है वो चाहें तो पटना में बैठकर भी अधिकारियों से फीड बैक ले सकते हैं. पता कर सकते हैं कि क्या त्रुटियां रह गईं और कहां दुरूस्त करने की जरूरत है. अब वो औरंगाबाद, गया और नवादा जा रहे हैं खैर ये उनकी इच्छा है. लेकिन पटना में रहकर भी परिस्थितियों को संभाला जा सकता था.

मुजफ्फरपुर में बच्चों की मौत और लू के थपेड़ों से औरंगाबाद,गया सहित दूसरे जिलों में मौत ने सरकार को असहज कर दिया है.सरकार अब डैमेज कंट्रोल में है और इसलिए मुख्यमंत्री खुद हवाई सर्वेक्षण करेंगे.