close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

मोदी सरकार के फैसले से बिहार के 4 लाख से अधिक करदाताओं को मिली बड़ी राहत : सुशील मोदी

2 करोड़ से अधिक वार्षिक टर्नओवर वाले करदाताओं के वार्षिक विवरणी फॉर्म के सरलीकरण के लिए एक कमिटी का गठन किया गया है.

मोदी सरकार के फैसले से बिहार के 4 लाख से अधिक करदाताओं को मिली बड़ी राहत : सुशील मोदी
सुशील मोदी बोले केंद्र सरकार के फैसले से राज्य के कारोबारियों को होगा फायदा. (फाइल फोटो)

पटना : उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी (Sushil Modi) ने बताया है कि जीएसटी (GST) काउंसिल की गोवा में हुई 37वीं बैठक में दो करोड़ से कम वार्षिक टर्नओवर वाले करदाताओं को वार्षिक विवरणी दाखिल करने से दो वर्षों (2017-18 और 18-19) के लिए छूट दिए जाने के निर्णय से बिहार के चार लाख 17 हजार कारोबारियों को बड़ी राहत मिली है. बिहार की पहल पर जीएसटी के अन्तर्गत बिहार के 82 प्रतिशत करदाता विगत दो वर्षों के वार्षिक विवरणी दाखिल करने से मुक्त हो जायेंगे. 

इसके साथ ही 2 करोड़ से अधिक वार्षिक टर्नओवर वाले करदाताओं के वार्षिक विवरणी फॉर्म के सरलीकरण के लिए एक कमिटी का गठन किया गया है. फॉर्म सरल होने के बाद वार्षिक विवरणी दाखिल करने में करदाताओं के सहूलियत होगी.

लाइव टीवी देखें-:

सुशील मोदी ने कहा कि जीएसटी लागू होने (एक जुलाई, 2017) के प्रारंभिक दिनों में वार्षिक विवरणी दाखिल करने को लेकर छोटे करदाताओं को काफी परेशानी हुई थी, जिसे अब काफी हद तक दूर कर दिया गया है. 

बिहार की ओर से सुशील मोदी ने बैठक में उपस्थित 15वें वित्त आयोग के अध्यक्ष एनके सिंह से जीएसटी लागू होने के बाद के पांच साल तक राजस्व वृद्धि 14 प्रतिशत से कम होने पर केन्द्र सरकार द्वारा क्षतिपूर्ति के प्रावधान को 2022 की जगह 3 साल और बढ़ा कर 2025 तक करने की मांग की. उन्होंने कहा कि अभी बिहार का राजस्व वृद्धि गैप 20 प्रतिशत है, ऐसे में बिहार को राजस्व की कमी की क्षतिपूर्ति मिलनी चाहिए.