देवघर के श्रावणी मेले पर संशय बरकार, राज्य सरकार के फैसले का श्रद्धालुओं को इंतजार

साल 2020 में सावन 6 जुलाई से शुरू होगा. हर साल देवघर स्थित बाबाधाम में श्रावणी मेला लगता है जिसमें शंकर जी को जल अर्पित करने के लिए मीलों पैदल चलकर लोग आते हैं.

देवघर के श्रावणी मेले पर संशय बरकार, राज्य सरकार के फैसले का श्रद्धालुओं को इंतजार
देवघर में आयोजित होने वाले श्रावणी मेला को लेकर संशय बरकरार है. (फाइल फोटो)

देवघर: साल 2020 में सावन 6 जुलाई से शुरू होगा. हर साल देवघर स्थित बाबाधाम में श्रावणी मेला लगता है जिसमें शंकर जी को जल अर्पित करने के लिए मीलों पैदल चलकर लोग आते हैं. वहीं, इस साल कोरोनावायरस की वजह देवघर में आयोजित होने वाले श्रावणी मेला को लेकर संशय बरकरार है.

देवघर में बाबा के मंदिर का पट अभी भी बंद है. हालांकि, कई पुरोहित संगठनों ने देवघर डीसी  के जरिए मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन से मेला स्थगित रखने की मांग भी की है. वहीं, जिला प्रशासन ने सरकार को अपना सुझाव भी दे दिया है जिसमें अनुमान और आकलन लगाए गए हैं कि सामाजिक दूरी का ख्याल रखते हुए 20000 श्रद्धालु प्रतिदिन पूजा कराए जा सकता है.

वहींं, दूसरी ओर मंदिर में आम श्रद्धालुओं की इंट्री बंद है. देवघर में कई लोगों का व्यवसाय चौपट हो चुका है और सबकी निगाहें राज्य सरकार के श्रावणी मेले को लेकर लिए जाने वाली निर्णय पर टिकी हुई है. साथ ही दूसरी ओर देवघर के बाबा मंदिर में विशेष पूजा-अर्चना महामृत्युंजय जाप आदि किए जा रहे हैं ताकि भोलेनाथ की कृपा हो और महामारी से लोगों को राहत मिले.

श्रावणी मेला के लिए मंदिर में हालांकि कुछ तैयारियां भी शुरू कर दी गई है लेकिन 5 जुलाई से शुरू होने वाले श्रावणी मेला को लेकर संशय अब भी बरकरार है और सबकी निगाहें सरकार के निर्णय पर टिकी हुई है.