सदन से तिलमिलाए निकले तेजस्वी, बोले- अपने ही आंकड़ों को नहीं मानती सरकार, मुझे कह रहे झूठा

उन्होंने जातियों के आंकड़े सामने रखे और कहा कि यहां देखिए किसी अतिपिछड़े समुदाय जाति के लिए 1 फीसद भी नहीं दिया गया है. नेता प्रतिपक्ष ने कहा कि सरकार का यह रवैया अजीबों-गरीब है जब वह अपने ही आंकड़ों को नहीं मानती है. 

सदन से तिलमिलाए निकले तेजस्वी, बोले- अपने ही आंकड़ों को नहीं मानती सरकार, मुझे कह रहे झूठा
डिप्टी CM पर तिलमिलाए तेजस्वी, कहा- खुद के आंकड़ों को नहीं मानते, मुझे कह रहे झूठा.

Patna: बिहार के नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव (Tejashwi Yadav) ने बिहार विधानसभा (Bihar Vidhansabha) में बजट सत्र के दौरान हुए वाद विवाद के बाद प्रेस वार्ता की. उन्होंने कहा कि बजट पर वाद विवाद हो रहा था जो समय मिला उसमें हमने अपने पक्ष को रखा. तथ्यों को हमने सरकार के समक्ष रखा. इसके बाद उपमुख्यमंत्री की तरफ से मुझ पर आरोप लगाया गया कि हमने झूठे आंकड़े पेश किए. उनका कहना है कि मैंने सदन को गुमराह किया. मेरे ऊपर गंभीर आरोप लगाए गए हैं.

तेजस्वी ने कहा कि खुलेआम सदन के अंदर झूठ बोले जा रहे हैं. हमने सरकारी आंकड़े ही दिखाए और सारे तथ्यों को उनके सामने रखा. फिर भी वह यह कह रहे हैं कि हमने आंकड़ों का धर्मजाल फैलाया. यह अदभुद है कि सरकार अपने ही दिए हुए आंकड़े को नहीं मान रही है.

यह भी पढ़ें:- NDA सरकार ने शिक्षा को बनाया मजाक, 2 पीढ़ियों को कर दिया बर्बाद: तेजस्वी यादव

तेजस्वी यादव  (Tejashwi Yadav)ने कहा कि आज बजट पर वाद विवाद हुआ. हमने उन्हीं के बजट का आंकड़ा निकाल कर रखा है. वित्त मंत्री तार किशोर प्रसाद (Tar Kishore Prasad) ने मुझपर झूठे आंकड़े देने का आरोप लगाया है. तेजस्वी ने कहा कि हमने Caste Census की बात की है ताकि अंतिम पायदान पर बैठे लोगों तक लाभ पहुंचाया जा सके.

उन्होंने जातियों के आंकड़े सामने रखे और कहा कि यहां देखिए किसी अतिपिछड़े समुदाय जाति के लिए 1 फीसद भी नहीं दिया गया है. नेता प्रतिपक्ष ने कहा कि सरकार का यह रवैया अजीबों-गरीब है जब वह अपने ही आंकड़ों को नहीं मानती है. 

वही, सीतामढ़ी में हुई हत्या की वारदात पर तेजस्वी यादव (Tejashwi Yadav) ने कहा कि आज सीतामढ़ी में आईजी जब जांच करने गए तो पास के इलाके में ही व्यापारी को गोली मार दी गई. आईजी के आसपास ही इस तरह से अपराध को अंजाम दिया जा रहा है, क्या ये है बिहार का राज. कानून व्यवस्था चरमरा गई है.