बेरोजगारी यात्रा से सरकार को घेरने चले तेजस्वी, बस के मामले पर खुद ही क्यों घिर गए ?

बिहार सरकार में मंत्री नीरज कुमार ने इस पर आरजेडी प्रदेश अध्यक्ष को चुनौती दे दी है. उन्होंने कहा कि यह जगदानंद सिंह की सुचिता पर सवाल है. आरजेडी प्रदेश अध्यक्ष बताएं कि क्या वो भी दागी बस पर सवार होकर घूमेंगे. आखिर क्यों एक अतिपिछड़ा समाज के शख्स को आर्थिक भ्रष्टाचार में फंसा दिया गया है.

बेरोजगारी यात्रा से सरकार को घेरने चले तेजस्वी, बस के मामले पर खुद ही क्यों घिर गए ?
बेरोजगारी यात्रा निकालने से पहले बस को लेकर सियासी बयानबाजियों में घिरे तेजस्वी यादव. (फाइल फोटो)

पटना: बिहार में आरजेडी ने सरकार के खिलाफ बेरोजगारी यात्रा निकाल सरकार को घेरने की रणनीति बनाई थी, लेकिन अब तेजस्वी यादव खुद ही इसमें घिरते नजर आ रहे हैं. नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने बेरोजगारी यात्रा निकालने के लिए बस का इस्तेमाल किया जिसमें सारे नेता बैठकर आए, इसके बाद से ही इस पर सियासी बयानबाजी शुरू हो गई है.

जेडीयू नेता व बिहार सरकार में मंत्री नीरज कुमार ने इस पर आरजेडी प्रदेश अध्यक्ष को चुनौती दे दी है. उन्होंने कहा कि यह जगदानंद सिंह की सुचिता पर सवाल है. आरजेडी प्रदेश अध्यक्ष बताएं कि क्या वो भी दागी बस पर सवार होकर घूमेंगे. आखिर क्यों एक अतिपिछड़ा समाज के शख्स को आर्थिक भ्रष्टाचार में फंसा दिया गया है.

इसके बाद बीजेपी ने भी इस पर वार किया. बीजेपी के दीघा विधायक संजीव चौरसिया ने कहा कि आरजेडी किस मुह से सुचिता की बात करेगी. बस कैसे खरीदी गई अब सबको सबकुछ मालूम हो चुका है. क्या इसी बस से तेजस्वी यात्रा करेंगे और जनता को क्या मैसेज देंगे. 

वहीं कांग्रेस ने इस बेरोजगारी यात्रा का बचाव किया है. कांग्रेस प्रवक्ता हरखू झा ने कहा कि सरकार ने असल मुद्दे से भटका कर तेजस्वी के बस को मुद्दा बना दिया है. बस कोई मुद्दा नहीं बेरोजगारी असल मुद्दा है जिसे सरकार दबाने में लगी है.

बता दें कि तेजस्वी यादव 23 फरवरी से 'बेरोजगारी हटाओ यात्रा' शुरू करने वाले हैं. इसको लेकर सत्ता पक्ष हमलवार है. वहीं, सूत्रों के मुताबिक यात्रा के लिए तैयार हो रहे बस को आधुनिक सुविधाओं से लैस किया गया है.

इस बस में कुल 10 से 12 लोगों के बैठने का इंतजाम है. साथ ही यात्रा के दौरान सभा के लिए अलग से मंच बनाने की जरूरत नहीं होगी. बस में हाइड्रोलिक सिस्टम लगा है, जिससे तेजस्वी बस की छत पर पहुंचेंगे और लोगों को संबोधित करेंगे.