close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

तेजस्वी यादव ने दिया नया नारा- पलटू चाचा भगाओ, बिहार बचाओ

मिलन समारोह के दौरान तेजस्वी ने साफ किया कि वो न तो बीजेपी के साथ कभी समझौता करेंगे और न ही नीतीश कुमार के साथ कभी जाएंगे. 

तेजस्वी यादव ने दिया नया नारा- पलटू चाचा भगाओ, बिहार बचाओ
तेजस्वी ने साफ किया कि वो न तो बीजेपी के साथ कभी समझौता करेंगे और न ही नीतीश कुमार के साथ कभी जाएंगे. (फाइल फोटो)

पटना: तेजस्वी यादव ने बिहार विधान सभा चुनाव से पहले पार्टी का टैग लाईन निर्धारित कर दिया है. पार्टी अब पलटू चाचा भगाओ बिहार बचाओ के नारे के साथ चुनावी मैदान में जाएगी. तेजस्वी यादव ने खुद इसकी घोषणा गुरुवार को पटना के श्रीकृष्ण मेमोरियल हॉल में की. मिलन समारोह के दौरान तेजस्वी ने साफ किया कि वो न तो बीजेपी के साथ कभी समझौता करेंगे और न ही नीतीश कुमार के साथ कभी जाएंगे. 

तेजस्वी यादव विधानसभा चुनाव की तैयारी में जुट गये हैं. हर दिन पार्टी के अलग अलग प्रकोष्ठों के साथ सदस्यता अभियान की समीक्षा बैठक कर रहे हैं तो साथ ही संगठन को मजबूत करने के लिए पुराने सहयोगियों को भी वापस पार्टी ज्वाइन भी करवा रहे हैं. गुरुवार को पूर्व एमएससी जेडीयू नेता आजाद गांधी ने भी आरजेडी में वापसी की. पटना के श्री कृष्ण मेमोरियल हॉल में मिलन समारोह का आयोजन भी किया गया. मिलन समारोह के दौरान तेजस्वी ने अपने भविष्य की रणनीति का भी खुलासा किया. 

 

तेजस्वी ने कहा कि बिहार में दो तरह की अफवाह उडाई गई. तेजस्वी ने नीतीश कुमार पर निशाना साधते हुए कहा कि पलटू चाचा की ओर से ऐसी अफवाहें उडाई जा रही हैं कि तेजस्वी यादव ने बीजेपी के साथ तालमेल कर लिया है. ऐसा अल्पसंख्यक वोट बैंक को रिझाने के लिए किया जा रहा है. मैं एक बात स्पष्ट कर देना चाहता हूं कि लालू जी ने जिस नीति सिद्दांत के लिए कुर्बानी दी, जेल गए आज बीजेपी से लड रहे हैं. आज मेरे उपर मुकदमा है , मेरे भाई पर मुकदमा है , मेरे सातों बहनों पर मुकदमा है, मेरे जीजा पर मुकदमा है कोई नहीं बचा. सारी देश की बडी बडी एजेंसियां लगा दी गईं. केवल हमें झुकाने के लिए. लेकिन लालू जी नहीं झुके. जब हमारे पिता ने आरएसएस और बीजेपी से समझौता नहीं किया, विचार का सौदा नहीं किया तो उनका खून हमारे अंदर है. जीतेजी हम भी समझौता नहीं करेंगे. 

इधर नीतीश कुमार के साथ जाने के मुद्दे को भी तेजस्वी ने अफवाह बताया. तेजस्वी ने कहा कि हमारे पिता ने सामाजिक न्याय धर्मनिर्पेक्षता बिहार के विकास के लिए सारे गिले सिकवे मिटा कर छोटे भाई के साथ समझौता किया था. लेकिन उन्होंने लालू जी को छुडा भोंकने का काम किया. ऐसे व्यक्ति के साथ हम कतई समझौता नहीं कर सकते. इनकी कोई गारंटी नहीं. 

तेजस्वी ने कहा कि आज की तारीख में जिसकी जितनी आबादी है उसे उतना ही आरक्षण मिलना चाहिए. लेकिन आज जिस तरह की राजनीति हो रही है उसके कारण संविधान खतरे में है. अगर संविधान खत्म हो जाएगा तो आरक्षण भी नहीं बचेगा. मिलन समारोह में तेजस्वी यादव ने लालू यादव की खराब सेहत का भी हवाला दिया.

तेजस्वी ने कहा कि मेरे पिता की 33 फीसदी किडनी ही काम कर रही है. 77 फीसदी किडनी काम नहीं कर रही. हार्ट की बीमारी है, शुगर है ,ब्लड प्रेशर है. लेकिन फिर भी उन्होंने हिम्मत नहीं हारी है. इसलिए हमलोगों को स्थिरता के साथ अपने लक्ष्य की ओर ध्यान लगाना है. तेजस्वी ने अतिपिछडा समाज के लिए संगठन में 60 फीसदी हिस्सेदारी के अलावा विधानसभा चुनाव में अच्छी संख्या में सीटों में हिस्सेदारी का भी भरोसा दिलाया.