close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

आरजेडी में निराशा, सदस्यता अभियान कार्यक्रम में नहीं पहुंचे तेजस्वी यादव

आरजेडी ने सदस्यता अभियान कार्यक्रम की शुरुआत की है. लेकिन इस कार्यक्रम में तेजस्वी यादव नहीं पहुंचे.

आरजेडी में निराशा, सदस्यता अभियान कार्यक्रम में नहीं पहुंचे तेजस्वी यादव
आरजेडी ने सदस्यता अभियान की शुरुआत की है.

पटनाः बिहार में राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) पार्टी ने सदस्यता अभियान शुरू किया है. आरजेडी ने शुक्रवार को इस अभियान की शुरुआत के लिए एक कार्यक्रम रखा था. जिसमें तेजस्वी यादव के पहुंचने के कयास लगाए जा रहे थे. लेकिन ऐसा नहीं हुआ यहां तक की इस अभियान की शुरुआत कार्यक्रम में लालू परिवार से कोई भी नहीं पहुंचा था. राबड़ी देवी और तेजप्रताप यादव भी नहीं पहुंचे थे.

तेजस्वी यादव लोकसभा चुनाव के बाद से राजनीतिक सक्रियता से दूर है. अब इस पर पार्टी के नेता सवाल खड़ा करने लगे हैं. कई अवसरों पर उनकी अनुपस्थिती पर वरिष्ठ से लेकर कार्यकर्ता तक सवाल खड़े कर रहे हैं. वहीं, ऐसा लगा था कि पार्टी के सदस्यता अभियान कार्यक्रम में तेजस्वी यादव फिर से सक्रिय राजनीति में बहाल होंगे लेकिन ऐसा नहीं हुआ.

आरजेडी में निराशा उस समय देखने को मिली जब लालू परिवार से कोई भी इस कार्यक्रम में शामिल नहीं हुआ. राबड़ी देवी खुद भी इस कार्यक्रम में शामिल नहीं हुई. वहीं, तेजस्वी यादव की कमी को पूरा करने के लिए तेजप्रताप यादव पहुंचते थे लेकिन वह भी यहां नहीं पहुंचे.

कार्यक्रम को की शुरुआत आरजेडी प्रदेश अध्यक्ष रामचंद्र पूर्वे ने की. वहीं, उनके साथ राष्ट्रीय उपाध्यक्ष शिवानंद तिवारी मौजूद थे. उन्होंने पार्टी के सदस्यता अभियान कार्यक्रम की शुरुआत की है. बताया जा रहा है कि यह कार्यक्रम 31 दिसंबर तक चलेगा.

बता दें कि अगल साल 2020 में बिहार विधानसभा चुनाव होना है. इसके लिए आरजेडी ने अभी से ही लोगों के बीच मजबूत पकड़ बनाने के लिए सदस्यता अभियान शुरू कर दिया है. लोगों तक पहुंचने के लिए सदस्यता अभियान को जोरशोर से चलाने की बात कही गई है. वहीं, तेजस्वी यादव के इस तरह के कार्यक्रम में नहीं पहुंचने और कार्यकर्ताओं को भरोसा नहीं दिलाने से पार्टी में निराशा दिख रही है.

आरजेडी की राष्ट्रीय कार्यकारी बैठक में कहा गया था कि तेजस्वी यादव के नेतृत्व में ही विधानसभा चुनाव लड़ा जाएगा. लेकिन तेजस्वी यादव के राजनीतिक सक्रियता को देखकर पार्टी में सवाल खड़े हो रहे हैं.