CAA-NRC के विरोध में आज से तेजस्वी की 'प्रतिरोध यात्रा', विरोधियों की बढ़ी टेंशन

तेजस्वी यादव सीएए और एनआऱसी के विरोध में यात्रा पर निकलेंगे. इसे लेकर अब बिहार में सियासत तेज हो गई है. यात्रा शुरू करने के लिए तेजस्वी ने सीमांचल की धरती को चुना है और सीमांचल को चुनने को लेकर भी राजनीति हो रही है.

CAA-NRC के विरोध में आज से तेजस्वी की 'प्रतिरोध यात्रा', विरोधियों की बढ़ी टेंशन
सीएए और एनआरसी के विरोध में तेजस्वी यात्रा करेंगे. (फाइल फोटो)

पटना: नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव आज से प्रतिरोध में यात्रा पर निकलेंगे. तेजस्वी यादव सीएए और एनआरसी के विरोध में यात्रा पर निकलेंगे. इसे लेकर अब बिहार में सियासत तेज हो गई है.

यात्रा शुरू करने के लिए तेजस्वी ने सीमांचल की धरती को चुना है और सीमांचल को चुनने को लेकर भी राजनीति हो रही है. तेजस्वी यादव किशनगंज समेत अररिया, पूर्णिया और कटिहार जिले का दौरा करेंगे. 

विरोधियों का दावा है कि ओवैसी के डर से तेजस्वी सीमांचल जा रहे हैं. सीएए और एनआरसी के विरोध में तेजस्वी यात्रा करेंगे. यात्रा की सारी तैयारियां पूरी हो गई है और उन्हें सहयोगियों का समर्थन भी मिल रहा है.

तेजस्वी यादव पर निशाना साधते हुए विरोधी उनसे ये सवाल भी कर रहे हैं कि वो कितने दिन तक यात्रा पर रहेंगे. बीजेपी नेता नंदकिशोर यादव ने कहा है कि तेजस्वी यात्रा छोड़कर घर जाने में माहिर हैं और इस बार भी वो यही करेंगे. वहीं, जेडीयू नेता अशोक चौधरी ने कहा है कि नीतीश कुमार ने एनआरसी ने ढाई साल पहले ही कहा है कि वो एनआरसी लागू नहीं करेंगे. 

उन्होंने ये भी कहा है कि खुद पीएम भी साफ कर चुके हैं कि फिलहाल एनआरसी पर कोई तैयारी नहीं है. जाहिर है विरोधी तेजस्वी की यात्रा पर सवाल करेंगे लेकिन गौर करने वाली बात ये भी है कि विरोधियों को चिंता भी सता रही है क्योंकि ये साल चुनावी है. चुनावी साल में सियासी यात्रा का नुकसान कहीं एनडीए को ना उठाना पड़े. इसलिए तेजस्वी को घेरने में सत्ता दल कोई कसर नहीं छोड़ना चाहता है.

वहीं, दूसरी ओर बीजेपी अध्यक्ष और गृह मंत्री अमित शाह भी सीएए और एनआरसी को लेकर बीजेपी द्वारा चलाए जा रहे जनजागरण अभियान के तहत बिहार दौरे पर हैं. अमित शाह जनजागरण अभियान के तहत वैशाली में जनसभा को संबोधित करेंगे.