close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

बिहार: सुशील मोदी के आरोपों के बाद भड़के तेजस्वी, एक के बाद एक ट्वीट कर साधा निशाना

सुशील मोदी के आरोपों के बाद तेजस्वी यादव ने ट्वीटर पर एक के बाद एक लगातार कई ट्वीट किए और ना सिर्फ सुशील मोदी पर बल्कि नीतीश कुमार पर भी जमकर निशाना साधा.

बिहार: सुशील मोदी के आरोपों के बाद भड़के तेजस्वी, एक के बाद एक ट्वीट कर साधा निशाना
सुशील मोदी ने लालू यादव पर एक के बाद कई आरोप लगाए हैं. (फाइल फोटो)

पटना: बिहार के उप मुख्यमंत्री सुशील मोदी ने लालू यादव पर एक के बाद कई आरोप लगाए हैं. उन्होंने कहा कि लालू यादव मौका पड़ने पर किसी भी हद तक जा सकते हैं. किसी का पांव भी पकड़ सकते हैं. उन्होंने कहा आरजेडी सुप्रीमो ने चारा घोटाला और अपने परिवार पर चल रहे भ्रष्टाचार के केस में सीबीआई से मदद की गुहार को लेकर देश के वित्त मंत्री अरुण जेटली से मिले थे.

 

सुशील मोदी के आरोपों के बाद तेजस्वी यादव ने ट्वीटर पर एक के बाद एक लगातार कई ट्वीट किए और ना सिर्फ सुशील मोदी पर बल्कि नीतीश कुमार पर भी जमकर निशाना साधा. तेजस्वी यादव ने अपने पहले ट्वीट में कहा- 'सृजन चोर सुशील मोदी हार देख बौखला गए हैं. मानसिक दिवालिएपन की पराकाष्ठा लांघ कह रहे हैं लालू जी संघ से मिले हुए हैं. अरे, लालू जी वो हैं जिन्होंने संघियों की आंखों में उंगली डाल बिगड़ैल बलवाई संघियों की नाक में रस्सी पिरोई है. कोई और बहाना खोजो, राफ़ेल चोर के गोतिया भाई सृजन चोर!

 

इसके बाद तेजस्वी यादव ने एक और ट्वीट किया जिसमें उन्होंने नीतीश कुमार पर निशाना साधा है और कहा- नीतीश जी संघ की गोद में लेटे दूध पी रहे हैं. बिहार में संघ के असल जन्मदाता नीतीश जी हैं. संघियों ने पलटी मारने के 6 महीने बाद इनको दूध पिलाना बंद किया तो फिर लालू जी की शरण में आना चाहते थे. चाचा, कब तक अपने सहबाला सृजन चोर जैसी पंचर स्टेपनी के बूते अपनी रेंगती राजनीति को खींचेंगे?

 

आपको बता दें कि सुशील मोदी ने कहा कि प्रेम गुप्ता और लालू यादव ने पूरी कोशिश की. मदद के बदले में उन्होंने बिहार में जेडीयू के हटाकर बीजेपी की सरकार बनाने में मदद का ऑफर दिया था. केस खत्म करवाने के लिए उन्होंने हर तरह की कोशिशें और मिन्नतें की.
उन्होंने कहा कि लालू यादव लगातार आरएसएस और बीजेपी के खिलाफ जहर उगलते रहते हैं, लेकिन जरूरत पड़ने पर मदद की गुहार लगाने से परहेज नहीं करते हैं. उन्होंने कहा कि बीजेपी कभी भी आरजेडी के साथ हाथ नहीं मिला सकती है. मुझे लगा समय आ गया है कि मीडिया के जरिए लालू यादव की सच्चाई जनता के सामने रखी जाए.

अब देखने वाली बात होगी कि सुशील मोदी के इन आरोपों का लोकसभा चुनाव पर कितना असर पड़ता है और आगे इस मामले में राजनीति क्या रंग लेती है.