किशनगंज में तेजस्वी की हुंकार यात्रा, नीतीश को सीएम पद के चेहरा बताए जाने पर कसा तंज

नेता प्रतिपक्ष से जब यह पूछा गया कि क्या लालू यादव जेल में रहते हुए ही सरकार बनाने में भूमिका निभाएंगे ? इस बात का जवाब देते हुए तेजस्वी ने कहा कि हमलोग स्वार्थी लोग नहीं हैं. हमलोग जनता की लड़ाई में साथ देने वाले लोग हैं. जनता की आवाज हैं. सरकार बनाने के लिए किसी तरह के रणनीति की जरूरत नहीं. वह जनता तय करेगी. 

किशनगंज में तेजस्वी की हुंकार यात्रा, नीतीश को सीएम पद के चेहरा बताए जाने पर कसा तंज
किशनगंज में सभा के दौरान तेजस्वी यादव.

पूर्णिया: बिहार में सियासी खेल अब दिलचस्प मोड़ ले रहा है. एक और जहां गृहमंत्री अमित शाह ने सीएए (CAA)  के पक्ष में वैशाली में एक सभा की, वहीं दूसरी ओर किशनगंज में नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने इसके विरोध में यात्रा निकाली. आरजेडी नेता ने किशनगंज में सीएए (CAA), एनआरसी (NRC) और एनपीआर (NPR) के खिलाफ हुंकार भरेंगे. 

दरअसल, राजनीतिक पंडित मानते हैं कि सीमांचल क्षेत्र में अपने पारंपरिक मुस्लिम वोटर को एक बार फिर विश्वास में लेने के लिए तेजस्वी ने यह यात्रा शुरू की है. इस मौके पर नेता प्रतिपक्ष ने वैशाली में गृहमंत्री अमित शाह के बयानों पर भी हमला किया है. उन्होंने कहा कि बिहार विधानसभा में नीतीश कुमार के नेतृत्व में लड़ा जाना और परिणाम के बाद मुख्यमंत्री चेहरा होना दोनों अलग चीजे हैं.

नेता प्रतिपक्ष से जब यह पूछा गया कि क्या लालू यादव जेल में रहते हुए ही सरकार बनाने में भूमिका निभाएंगे ? इस बात का जवाब देते हुए तेजस्वी ने कहा कि हमलोग स्वार्थी लोग नहीं हैं. हमलोग जनता की लड़ाई में साथ देने वाले लोग हैं. जनता की आवाज हैं. सरकार बनाने के लिए किसी तरह के रणनीति की जरूरत नहीं. वह जनता तय करेगी. 

इसके अलावा तेजस्वी यादव ने गृहमंत्री अमित शाह से पूछा कि देश में बेरोजगारी कैसे बढ़ी, जीडीपी क्यों घट रही है ? यहीं नहीं उन्होंने यह भी कहा कि बिहार में बेरोजगारी अब तक का सबसे ज्यादा कैसे बढ़ गया है, इसका भी जवाब मांगा है. 

किशनगंज के लहरा मैदान में आरजेडी की ओर से जनसभा प्रतिरोध का आयोजन किया गया था, जिसमें तेजस्वी यादव के अलावा मंच पर बड़े चेहरे में किशनगंज के मौजूदा सांसद डॉ. मोहम्मद जावेद भी थे. इसके अलावा पूर्व विधानसभा सभापति परवेज सलीम, विधानसभा पूर्व अध्यक्ष उदय नारायण चौधरी और आरजेडी के पूर्व सरफराज आलम के अलावा पूर्व विधायक राम प्रकाश महतो भी मौजूद रहे.