बिहार उपचुनाव : RJD की जीत के बाद तेजस्वी बने जीत के हीरो

साल 2019 में होने वाले लोकसभा चुनाव के पहले अररिया लोकसभा, जहानाबाद विधानसभा और भभुआ विधानसभा पर हुए उपचुनाव का परिणाम पहले ही कई मामलों में खास माना जा रहा था. 

बिहार उपचुनाव : RJD की जीत के बाद तेजस्वी बने जीत के हीरो
लालू यादव के जेल जाने के बाद लगातार तेजस्वी ना सिर्फ पार्टी की कमान संभाले हुए हैं बल्कि विरोधियों को परास्त करने की कोशिश कर रहे हैं. (फाइल फोटो)

बिहार में 1 लोकसभा और 2 विधानसभा सीट पर हुए उपचुनावों में बीजेपी को शिकस्त मिलने के बाद इस बात के भी संकेत मिलने लगे हैं कि तेजस्वी यादव राजनीति और कूटनीति में प्रगाढ़ होने की कोशिश कर रहे हैं. लालू यादव के जेल जाने और नीतीश के साथ गठबंधन टूटने के बाद उपचुनाव के मुकाबले को जीतना अहम है. साल 2019 में होने वाले लोकसभा चुनाव के पहले अररिया लोकसभा, जहानाबाद विधानसभा और भभुआ विधानसभा पर हुए उपचुनाव का परिणाम पहले ही कई मामलों में खास माना जा रहा था. 

यह भी पढ़ें : Bihar Bypoll Results 2018 : जहानाबाद में JDU-BJP पर भारी पड़े तेजस्वी यादव, RJD की बड़ी जीत

राजनीति में धमक बढ़ाने में कामयाब हुए तेजस्वी
बिहार उपचुनावों के परिणाम बताते हैं कि लालू यादव के बेटे तेजस्वी यादव पिता की गैर मौजूदगी में राजनीति में अपनी धमक बढ़ाने का सफल प्रयास कर रहे हैं. लालू यादव के जेल जाने के बाद तेजस्वी जिस तरह के विरोधियों को जवाब देने और उन पर हावी होने की कोशिश कर रहे हैं उससे यह बात तो स्पष्ट है कि वह अब लीडिंग फ्रॉम फ्रंट की भूमिका में काम करना चाहते हैं और कर भी रहे हैं. जीत का सेहरा तेजस्वी यादव के सिर इसलिए भी सजा है, क्योंकि वह प्रदेश की राजनीति में एकमात्र ऐसा युवा चेहरा है जिस पर जनता पिछले विधानसभा चुनावों से लेकर अब तक विश्वास कर रही है. 

इस तरह बढ़ा तेजस्वी का कद
लालू यादव के जेल जाने के बाद राजनीतिक गलियारों में इस बात की सुगबुगाहट तेज हो गई थी कि अब आरजेडी को कौन संभालेगा. लेकिन तेजस्वी यादव ने सुगबुगाहट पर पूर्ण विराम लगाया और ना सिर्फ विरोधियों पर हावी हुए बल्कि पार्टी की कमान को बखूबी संभाला. 

नीतीश के लिए चुनौती का समय
उपचुनावों के नतीजे इस बात को भी स्पष्ट करते हैं कि बिहार की राजनीति में तेजस्वी यादव नीतीश के विकल्प के रूप में उभर कर आ रहे हैं. तेजस्वी के राजनीतिक गतिविधियों की वजह से बिहार की जनता के बीच लाजिमी तौर पर तेजस्वी की पूछ बढ़ेगी. इसके साथ ही बिहार में आगामी विधानसभा चुनावों में नीतीश को तेजस्वी यादव से कड़ी टक्कर मिलेगी.