close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

17 जुलाई से श्रावणी मेले की शुरुआत, देवघर में बनाए जा रहे हैं दो भव्य टेंट सिटी

भोले के भक्त जब 105 किलोमीटर के पांव पैदल यात्रा कर देवघर पहुंचते हैं तो वह काफी थके हुए होते हैं. यहां पहुंचने के बाद उन्हें पांच किलोमीटर से लेकर 15 किलोमीटर की लंबी कतार में खड़ा रहना पड़ता है.

17 जुलाई से श्रावणी मेले की शुरुआत, देवघर में बनाए जा रहे हैं दो भव्य टेंट सिटी
श्रावणी मेला को लेकर बनाए जा रहे हैं टेंट सिटी.

देवघर : श्रावणी मेले की शुरुआत 17 जुलाई से हो रही है. देवघर आने वाले लाखों श्रद्धालुओं के लिए इस बार बेहतर व्यवस्था की जा रही है. बीते वर्ष टेंट सिटी की सफलता को देखते हुए इस बार नए स्वरूप में लगाया जा रहा है. इस बार देवघर में दो टेंट सिटी बनाए जा रहे हैं, जिसमें करीब 1300 शिवभक्त रह सकते हैं. टेंट सिटी में यात्रियों को के लिए स्वच्छ पानी, स्नानागार, बिजली जैसी तमाम सुविधाएं मिलेंगी. वह भी बिल्कुल नि:शुल्क. साथ ही उनकी गाड़ियों को पार्क करने के लिए बेहतर स्टैंड की भी व्यवस्था की गई है.

इस बार दो टेंट सिटी कोठिया में बनाए गए हैं, जिसकी क्षमता एक हजार और ढाई सौ के करीब है. साथ ही टेंट सिटी को एक भव्य रूप दिया जा रहा है.

भोले के भक्त जब 105 किलोमीटर के पांव पैदल यात्रा कर देवघर पहुंचते हैं तो वह काफी थके हुए होते हैं. यहां पहुंचने के बाद उन्हें पांच किलोमीटर से लेकर 15 किलोमीटर की लंबी कतार में खड़ा रहना पड़ता है. ऐसे में दर्शन से पहले आराम देने के लिए राज्य सरकार के निर्देश पर जिला प्रशासन ने देवघर में दो भव्य टेंट सिटी की व्यवस्था की है. 

टेंट सिटी में यात्रियों को आराम देह बिस्तर, ठंडी हवा के लिए पंखे, मोबाइल को चार्ज करने के लिए चार्जिंग प्वाइंट, स्नान करने के लिए स्नानागार, पीने के लिए शुद्ध पेयजल और सूचनाओं का आदान-प्रदान करने के लिए मुकम्मल व्यवस्था की जा रही है. देवघर डीसी ने बताया कि इस बार का श्रावणी मेला ऐतिहासिक होगा, क्योंकि इसकी भव्यता पर विशेष ध्यान दिया जा रहा है.

उन्होंने कहा कि श्रद्धालुओं को आराम मिल सके इसके लिए टेंट सिटी की व्यवस्था की गई है. दोनों ही टेंट सिटी कोठिया में बनाया गया है, जिसमें एक की क्षमता 1000 और दूसरे टेंट सिटी की क्षमता ढाई सौ है. उपायुक्त ने बताया कि इसके सौंदर्य पर विशेष ध्यान दिया जा रहा है, ताकि भक्त जब यहां आएं तो उन्हें देवनगरी की भव्यता का एहसास हो सके.

टेंट सिटी की भव्यता के लिए भगवान भोले, त्रिशूल डमरू और स्वामी मेला के नाम का बोर्ड बड़े ही भव्य तरीके से बनाया जा रहा है साथ ही शिव की विशाल प्रतिमा की बनाई जा रही है जिसके लिए कारीगर कई दिनों से काम में लगे हैं.