सदन की अग्निपरीक्षा में पास हुए नीतीश तो यह नेता बन सकते हैं मंत्री

सदन की अग्निपरीक्षा में पास हुए नीतीश तो यह नेता बन सकते हैं मंत्री
बिहार में बीजेपी-जेडीयू गठबंधन में नहीं हुआ है मंत्रीमंडल का शपथ ग्रहण (फाइल फोटो)

नई दिल्लीः बिहार में आरजेडी को छोड़ बीजेपी के साथ मिलकर सरकार बनाने वाले जेडीयू नेता नीतीश कुमार को आज सदन में बहुमत साबित करना है. 243 सदस्यीय विधानसभा में बहुमत के लिए 122 विधायकों की जरूरत है. बीजेपी-जेडीयू ने 132 विधायकों के समर्थन का दावा किया है. जिसमें जेडीयू के 71, बीजेपी के 53, आरएलएसपी के दो, एलजेपी के दो, हिंदुस्तान आवामा मोर्चा के एक और तीन निर्दलीय विधायक हैं.

लेकिन सभी की निगाहें नीतीश की पार्टी के मुस्लिम और यादव विधायकों पर रहेंगी. लालू का साथ छोड़ने और बीजेपी का दामन थामने से पार्टी के ये विधायक क्या स्टैंड लेते है ये देखने वाली बात होगी. इसलिए विधानसभा में आज लालू की पार्टी आरजेडी सीक्रेट वोटिंग की मांग करेगी. 

नीतीश ने फिर ख़ुद को साबित किया बिहार की राजनीति का 'चाणक्य', राजनीतिक दांवपेंच से दोस्तों-दुश्मनों को डाला सकते में

आपको बता दें कि बीजेपी-जेडीयू गठबंधन की सरकार के शपथ ग्रहण में केवल सीएम और डिप्टी सीएम ने ही शपथ ली है. अभी ये तय नहीं हुआ है कि राज्य में कौन-कौन से मंत्री बनेंगे. वैसे तो नीतीश कुमार और सुशील मोदी को ये सब कुछ पहले तय कर लेना चाहिए था. लेकिन बिहार में सबसे बड़े दल आरजेडी को सरकार बनाने का कोई भी मौका नहीं देने के चलते गुरुवार सुबह 10 केवल सीएम और डिप्टी सीएम ने शपथ ली. खबरों की मानें, तो पूर्व सीएम जीतनराम मांझी को भी मंत्री पद मिल सकता है. मांझी के अलावा ये नेता बन सकते हैं मंत्री.

जेडीयू कोटे से ये नेता बन सकते हैं मंत्री

- विजेंदर प्रसाद यादव

- ललन सिंह

- लेसी सिंह

- श्रवण कुमार

- जय कुमार सिंह

- खुर्शीद अहमद

बीजेपी कोटे से ये नेता बन सकते हैं मंत्री

- नंदकिशोर यादव

- डॉ. प्रेम कुमार

- मंगल पांडेय

- रजनीश कुमार

- ज्ञानेंद्र सिंह ज्ञानू

- रामप्रीत पासवान

- HAM के अध्यक्ष जीतनराम मांझी भी मंत्री बन सकते है.