close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

महिला हॉकी टीम में झारखंड की 2 खिलाड़ी शामिल, सलीमा टेटे, निक्की प्रधान जाएंगी इंग्लैंड

निक्की प्रधान 2011 से ही भारतीय हॉकी टीम की नियमित सदस्य हैं और ओलंपिक में खेलने वाली झारखंड की पहली महिला हॉकी खिलाड़ी भी हैं.

महिला हॉकी टीम में झारखंड की 2 खिलाड़ी शामिल, सलीमा टेटे, निक्की प्रधान जाएंगी इंग्लैंड
भारतीय महिला हॉकी टीम में झारखंड से दो खिलाड़ियों का चयन. (फाइल फोटो)

सिमडेगा: झारखंड की दो खिलाड़ियों का चयन राष्ट्रीय महिला हॉकी टीम (Hockey) में हुआ है. जिसमें सिमडेगा (Simdega) की सलीमा टेटे और खूंटी की निक्की प्रधान शामिल हैं. बतौर डिफेंडर सलीमा टेटे को हॉकी टीम में जगह मिली है, जबकि मिडफील्डर के तौर पर निक्की प्रधान को शामिल किया गया है. दोनों ही खिलाड़ी फिलहाल बेंगलुरु कैंप में प्रैक्टिस कर रही हैं और 22 सितंबर को टीम के साथ इंग्लैंड जाएंगी.

भारतीय महिला हॉकी टीम का 4 अक्टूबर तक इंग्लैंड का दौरा है. निक्की प्रधान 2011 से ही भारतीय हॉकी टीम की नियमित सदस्य हैं और ओलंपिक में खेलने वाली झारखंड की पहली महिला हॉकी खिलाड़ी भी हैं.

निक्की प्रधान रेलवे में नौकरी करती हैं, जबकि सलीमा टेटे एसटीसी में ट्रेनी हैं. सलीमा टेटे ने भारतीय महिला जूनियर हॉकी टीम की कप्तान भी की है. पिछले साल भी भारतीय महिला हॉकी टीम में झारखंड की तीन महिला खिलाड़ियों को जगह मिली थी. जिसमें निक्की प्रधान, सोनल मिंज और बिरजनी एक्का का नाम शामिल था. भारतीय हॉकी टीम में कई सालों से झारखंड का दबदबा रहा है और 50 से अधिक खिलाड़ी भारतीय हॉकी टीम का हिस्सा रह चुके हैं.

लाइव टीवी देखें-:

सुमराय टेटे और असुंता लकड़ा ने महिला हॉकी टीम की कप्तानी भी की है. हॉकी जब से स्ट्रोटर्फ मैदान पर खेले जाने लगा तब से झारखंड के खिलाड़ियों की भागीदारी कम हुई है, इसकी वजह ये है कि झारखंड में एस्ट्रोटर्फ मैदान की कमी है जिसकी वजह से खिलाड़ियों को अंतरराष्ट्रीय स्तर की प्रैक्टिस नहीं मिल पाती है. हॉकी के लिए झारखंड में सिर्फ सिमडेगा में एस्ट्रोटर्फ स्टेडियम है. यहां हॉकी को लेकर लोगों में ऐसी दिवानगी है कि पढ़ाई के साथ साथ बच्चों को बॉल और स्टिम थमा दिया जाता है, इसलिए सिमडेगा को हॉकी का नर्सरी भी कहा जाता है. खिलाड़ियों को राष्ट्रीय या अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भाषा की दिक्कत ना हो इसके लिए अंग्रेजी की पढ़ाई पर विशेष जोर दिया जाता है. 

-- Sameer Bajpai, News Desk