close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

झारखंड साहू समाज के प्रदेश अध्यक्ष BJP में शामिल, संथाल परगना में JMM के किले को करेंगे ध्‍वस्‍त

झारखंड साहू समाज के कार्यकारी प्रदेश अध्यक्ष उमाचरण प्रसाद साहू बीजेपी में शामिल हो गए हैं.

झारखंड साहू समाज के प्रदेश अध्यक्ष BJP में शामिल, संथाल परगना में JMM के किले को करेंगे ध्‍वस्‍त
उमाचरण साहू बीजेपी में शामिल हो गए हैं. (फाइल फोटो)

रांचीः झारखंड साहू समाज के कार्यकारी प्रदेश अध्यक्ष उमाचरण प्रसाद साहू बीजेपी में शामिल हो गए हैं. रविवार को उन्होंने बीजेपी पार्टी की सदस्यता ग्रहण की. बताया जा रहा है कि साहू के बीजेपी में आने के बाद छोटानागपुर और संथाल परगना में पार्टी और मजबूत होगी. पीएम मोदी ने भी लोकसभा चुनाव के दौरान उमाचरण साहू का नाम लेकर उनके कामों की सराहना की थी.

बीजेपी के लिए संथाल परगना और छोटानागपुर क्षेत्र चुनौती रही है. हालांकि, लोकसभा चुनाव में बीजेपी ने इन दोनों क्षेत्रों में अपना दबदबा बना लिया है. यह इस बात से पता चलता है कि जेएमएम के अध्यक्ष शिबू सोरेन को अपने घर में हार का मुंह देखना पड़ा. वहीं, बीजेपी अब विधानसभा चुनाव में भी जेएमएम को संथाल परगना में शिकस्त देना चाहती है.

झारखंड साहू समाज के कार्यकारी अध्यक्ष उमाचरण प्रसाद साहू अपने समाज के बड़े नेता माने जाते हैं. उनकी संथाल परगना में काफी पकड़ है. ऐसे में बीजेपी में उनका शामिल होना पार्टी को बड़ा फायदा विधानसभा चुनाव में मिल सकता है.

उमा चरण साहू पिछले 45 सालों से सामाजिक जीवन में सक्रिय हैं, झारखंड राज्य के अलग होने तक साहू झारखंड मुक्ति मोर्चा के सेंट्रल कमेटी के मेंबर रहे, लेकिन राज्य के अलग हो जाने के बाद उन्होंने झारखंड मुक्ति मोर्चा में परिवारवाद का विरोध करते हुए उससे अपने आप को अलग कर लिया था. साहू 1995 के विधानसभा चुनाव में गिरिडीह के धनवार विधानसभा क्षेत्र से चुनाव भी लड़ा था और उस वक्त लगभग उनको करीब 18000 मत प्राप्त हुए थे.

हाल ही में लोकसभा चुनाव के दरमियान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उमाचरण साहू के पिछले पांच दशक के सामाजिक कार्यों के लिए उनको सराहा और नमन किया था. साथ ही उन्होंने इस बात पर भी जिक्र किया कि किस तरीके से विपरीत परिस्थितियां होने के बावजूद भी उमाचरण साहू लगातार गरीबों पिछड़ों और आदिवासियों के लिए काम करते रहे. संभवत देश भर में यह पहला मौका था जब प्रधानमंत्री ने लोकसभा चुनाव के दरमियान अपने किसी भी प्रत्याशी का नाम न लेकर एक सामाजिक कार्यकर्ता की खुले मंच पर सराहना की.

उमाचरण साहू के बारे में बताया जाता है कि वैश्य और पिछड़े मतदाताओं के बीच इनकी जबरदस्त पकड़ है और इससे भारतीय जनता पार्टी को कम से कम 25 से 30 सीटों पर और अधिक मजबूती मिलेगी.