बिहार: शिक्षा-रोजगार के मुद्दे पर कुशवाहा की मोर्चाबंदी, 24 जनवरी को बनाएंगे मानव श्रृंखला

उपेन्द्र कुशवाहा भी नीतीश कुमार की दहेज, बाल-विवाह, नशाबंदी को लेकर 19 जनवरी को आयोजित मानव श्रृंखला के जबाब में शिक्षा और रोजगार की समस्या को लेकर 25 जनवरी को मानव श्रृंखला का नेतृत्व करने वाले हैं.

बिहार: शिक्षा-रोजगार के मुद्दे पर कुशवाहा की मोर्चाबंदी, 24 जनवरी को बनाएंगे मानव श्रृंखला
शिक्षा-रोजगार के मुद्दे पर कुशवाहा 24 जनवरी को बनाएंगे मानव कतार. (फाइल फोटो)

पटना: बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने जलवायु परिवर्तन के खिलाफ अपनी महत्वाकांक्षी योजना 'जल, जीवन, हरियाली' के समर्थन में रविवार को पूरे प्रदेश में मानव श्रृंखला बनाने का आह्वान किया था. मुख्यमंत्री के आह्वान पर बड़ी संख्या में लोग इस मानव श्रृंखला में शामिल हुए. वहीं, विपक्ष द्वारा सरकार की विफलताओं को आधार बना कर 24 जनवरी को मानव श्रृंखला का आयोजन करेगी.

आरएलएसपी सुप्रीमो उपेन्द्र कुशवाहा भी नीतीश कुमार की दहेज, बाल-विवाह, नशाबंदी को लेकर 19 जनवरी को आयोजित मानव श्रृंखला के जबाब में शिक्षा और रोजगार की समस्या को लेकर 24 जनवरी को मानव श्रृंखला का नेतृत्व करने वाले हैं. कुशवाहा ने नारा दिया है- हमें चाहिए शिक्षा एवं रोजगार इसीलिए मानव कतार. 

आरएलएसपी 25 जनवरी को कर्पूरी ठाकुर की जयंती के अवसर पर एक दिन पहले मानव कतार बनाने जा रही है. 24 जनवरी को मानव श्रृंखला को सफल बनाने के लिए इसके सहयोग में वामदल और सभी विरोधी पार्टियों से अपील भी की है. 

24 जनवरी को RLSP के मानव कतार पर पार्टी के प्रधान महासचिव माधव आनंद का कहना है कि शिक्षा किसी एक पार्टी का मुद्दा नहीं है. यह बिहार से जुड़ा मसला है, इसलिए मेरी अपील सभी दलों से है कि वो इसमें शामिल हों. जेडीयू हो या बीजेपी सभी इस मानव कतार का हिस्सा बनें, निजी स्वार्थ और दलगत राजनीति से ऊपर उठकर इसके हिस्सा बनें.

आपको बता दें कि बिहार में इसी वर्ष विधानसभा चुनाव होने वाला है. इस बात को ध्यान में रखते हुए सभी राजनीतिक पार्टियां अपने-अपने दांव आजमाने की जुगत में लगी हुई हैं. महागठबंधन में आरएलएसपी प्रमुख उपेंद्र कुशवाहा भी चुनाव से पहले साम, दाम, दंड, भय और भेद अपना रहे हैं.